Arvind Krishna Next CEO of IBM: भारतीय मूल के प्रौद्योगिकी कार्यकारी अरविंद कृष्ण (Arvind Krishna) को “विश्व स्तरीय उत्तराधिकार प्रक्रिया” के बाद अमेरिकी दिग्गज आईटी कंपनी आईबीएम (IBM) का मुख्य कार्यकारी अधिकारी चुना गया है. इस प्रक्रिया को वर्जीनिया रोमेट्टी (Virginia Ginni Marie Rometty) ने सफल बनाया है. रोमेट्टी ने अरविंद कृष्ण को आईबीएम में सीईओ पद के लिए उपयुक्त बताया है. उनका मानना है कि कृष्णा कंपनी के नेतृत्व को सफलतापूर्वक निभा सकते हैं.

आईबीएम के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स ने अरविंद कृष्णा को कंपनी के सीईओ और बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स के सदस्य के रूप चुना. बता दें कि 6 अप्रैल से अरविंद का कार्यकाल शुरू होगा. कृष्णा वर्तमान में क्लाउड और कॉग्निटिव सॉफ्टवेयर के लिए आईबीएम के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट हैं. बता दें कि रोमेट्टी ने 62 साल की उम्र में रिटायरमेंट लिया है. आईबीएम के साथ रोमेट्टी पिछले 40 सालों से काम कर रही हैं.

बता दें कि अरविंद कृष्णा साल 1990 में आईबीएम में शामिल हुए थे. अरविंद कृष्णा फिलहाल आईबीएम के क्लाउड एंड कॉग्निटिव सॉफ्टवेयर के वरिष्ठ उपाध्यक्ष (Senior Vice Presodent) हैं. उन्होंने आईबीएम के कई नई तकनीकियों जैसे- आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, क्लाउड और क्वांटम कंप्यूटिंग का नेतृत्व किया है.

अरविंद कृष्णा भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान कानपुर से ग्रैजुएट हैं. इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में इन्होंने इलिनोइस विश्वविद्यालय (University of Illinois) से पीएचडी की है. कृष्ण ने आईबीएम द्वारा जारी एक प्रेस रिलीज में कहा, “आईबीएम के अगले मुख्य कार्यकारी अधिकारी के रूप में चुने जाने को लेकर काफी घबराया और विनम्र हूं. मैं गिन्नी के भरोसे की प्रशंसा करता हूं जो उन्होंने मुझे बोर्ड में रखा.

बता दें कि आईबीएम कंपनी के प्रमुख बनने के साथ अरविंद कृष्णा उन भारतीय-अमेरिकियों की श्रेणी में शामिल हो गए हैं जो दुनियाभर की कई बड़ी कंपनियों का नेतृत्व कर रहे हैं. इस सूची में माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला, गूगल और अल्फाबेट के सीईओ सुंदर पिचाई, मास्टरकार्ड के सीईओ अजय बंगा, पेप्सिकों के पूर्व सीईओ इंद्र नूयी और एडोबी के सीईओ शांतनु नारायण शामिल हैं.