सैन फ्रांसिस्को: अमेरिका में एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है. भारतीय मूल का एक आईटी पेशेवर अपनी कार में एक शव लेकर उत्तरी कैलिफोर्निया पुलिस थाने में पहुंचा तथा वहां उसने अपने अपार्टमेंट में तीन और लोगों की हत्या का जुर्म कबूला. अमेरिकी मीडिया में आयी खबरों के अनुसार, इस सनसनीखेज खुलासे के बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया है.

रोजविले पुलिस विभाग के कैप्टन जोशुआ सिमोन ने कहा कि इस जघन्य घटना में सभी चार पीड़ित संदिग्ध शंकर नागप्पा हंगुड के परिवार के सदस्य हैं. सिमोन ने चारों मृतकों के नाम बताने से इनकार कर दिया, लेकिन बताया कि ये सभी संदिग्ध के परिवार के सदस्य थे. इनमें दो वयस्क तथा दो नाबालिग शामिल हैं.

हंगुड लाल रंग की अपनी कार से शहर के पुलिस थाने पहुंचा और उसने अधिकारियों को बताया कि उसने रोजविले शहर की प्लेसर काउंटी में अपने अपार्टमेंट में लोगों की हत्या की है. सिमोन ने बताया कि हंगुड को हिरासत में ले लिया गया और वह हत्या के चार आरोपों का सामना करेगा. हंगुड के लिंकडिन प्रोफाइल के मुताबिक, वह एक डेटा विशेषज्ञ है और उसने कई कंपनियों में काम किया है.

सिमोन ने कहा, ‘‘इस घटना ने इलाके में कई लोगों की जिंदगी पर गहरा असर डाला है.’’ हाल के इतिहास में 130,000 लोगों की आबादी वाली प्लेसर काउंटी में ऐसा हत्याकांड नहीं हुआ. उन्होंने बताया, ‘‘संदिग्ध एक शव को अपनी कार में साथ लेकर माउंट शास्टा पुलिस विभाग पहुंचा और अपना जुर्म कबूल किया.’’

सिमोन ने कहा, ‘‘ऐसा लगा रहा है कि इस संदिग्ध ने कुछ दिनों के अंतराल में इन लोगों की हत्या की. इन हत्याओं के वक्त का पता लगा रहे हैं.’’ पुलिस ने कहा कि वे हंगुड के इस कृत्य की वजह नहीं बता सकते. हालांकि, कर रिकॉर्ड से पता चला कि हंगुड पर 178,603 डॉलर का कर बकाया था. उन्होंने बताया कि पीड़ितों की पहचान अभी नहीं हुई है. जब तक परिजन उनकी शिनाख्त न कर लें तब तक पहचान मालूम नहीं हो सकती.