डेट्रायटः अमेरिका के डेट्रायट की एक अदालत ने एक भारतीय इंजीनियर को 9 साल की सजा सुनाई है. तमिलनाडु का रहने वाला प्रभु राममूर्ति नामक इंजीनियर एच-1 वीजा पर अपनी पत्नी के साथ अमेरिका में रहता है. इस दौरान एक दिन प्लेन से सफर में उसने दूसरी तरफ बैठी एक महिला के साथ बेहद गंदी हरकत की. उस वक्त उसकी पत्नी और महिला दोनों उसके आजू-बाजू में बैठी थी और दोनों सो रही थीं. इस अपराध में उसे 9 साल की सजा सुनाई गई है. यह घटना इस साल जनवरी की है.

विमान लॉस वेगास से डेट्रायट जा रहा था. इस दौरान महिला सो रही थी. आरोपी राममूर्ति बीच की सीट पर पीड़िता के बगल में बैठा था. उसकी पत्नी किनारे की सीट के पास बैठी हुई थीं. अभियोजकों ने इसे ‘निर्लज्ज’ कृत्य करार दिया. बचाव पक्ष के वकील 10 वर्ष से कम की सजा के पक्ष में थे. राममूर्ति कार्य वीजा पर अमेरिका गया हुआ है. सजा पूरी होने के बाद उसे भारत प्रत्यर्पित कर दिया जाएगा.

अदालत ने कहा कि जब कोई भी व्यक्ति विमान में यात्रा करता है तो सुरक्षा उसका अधिकार है. हम इस तरह के व्यवहार की अनदेखी नहीं कर सकते. इस मामले में आरोपी ने सो रही महिला का फायदा उठाया जो ठीक नहीं है. हम इस बारे में अपनी आपबीती सुनाने के लिए पीड़िता की सराहना करते हैं. मामले के उपलब्ध साक्ष्यों के मुताबिक 3 जनवरी की रात में सफर के दौरान राममूर्ति सो रही साथी महिला यात्री के साथ यौन कृत्य में सलिप्त था. जब महिला की नींद खुली तो उसने खुद को असहज स्थिति में पाया. शरीर से उसके कपड़े हटे हुए थे. इसके बाद महिला ने विमान के कर्मियों से सहयोग मांगा था और मामले को लेकर आवाज उठाई थी.