वाशिंगटन: लॉयन एयर विमान दुर्घटना में मारे गए 189 यात्रियों में से एक के परिजनों ने बोइंग कंपनी पर मुकदमा दायर किया है. बता दें कि 29 अक्टूबर को हुए इस त्रासदपूर्ण हादसे में विमान में सवार सभी लोग मारे गए थे. इंडोनेशिया के जकार्ता से उड़ान भरने के कुछ मिनटों बाद ही यह विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था.

‘असुरक्षित डिजाइन’ पर मुकदमा
दुर्घटना में मारे गए रियो नंदा पुत्रामा अपने विवाह के लिए इस विमान से यात्रा कर रहे थे लेकिन दुर्घटना होने के चलते सभी यात्रियों के साथ उनकी भी मौत हो गई. पीड़ित परिवार ने बोइंग के 737 मैक्स 8 विमान के कथित ‘असुरक्षित डिजाइन’ को लेकर मुकदमा दायर किया गया है. प्राप्त समाचार के मुताबिक, इलिनॉय के कुक काउंटी के सर्किट कोर्ट में गुरुवार को मुकदमा दायर किया गया. यह मुकदमा कंपनी के एक नए सुरक्षा फीचर पर केंद्रित है, जिस कारण 737 मैक्स 8 विमान चुनिंदा परिस्थितियों में ‘ऑटो-डाइव’ कर सकता है. मुकदमे में आरोप लगाया गया है कि यह पूर्व बोइंग 737 डिजाइनों में एक बदलाव है और कंपनी इस परिवर्तन को कम्युनिकेट करने में विफल रही है.

188 लोगों को ले जा रहा Lion Air का विमान समुद्र में क्रैश, दिल्ली के भव्य सुनेजा थे कैप्टन

पायलटों को चेतावनी देने में असफल
आरोप में कहा गया, “दुर्घटना से पहले कोई प्रासंगिक समय नहीं .. क्या बोइंग ने नए ‘ऑटो डाइविंग’ डिजाइन के कारण लॉयन एयर या असुरक्षित स्थिति को लेकर पायलटों को पर्याप्त रूप से चेतावनी दी थी.” पीड़ित रियो नंदा पुत्रामा के माता-पिता के वकीलों के मुताबिक, वह शादी करने के लिए इंडोनेशिया के पंगकल पिनांग के लिए उड़ान भर रहा था. लॉयन एयर के ऑपरेशनल डायरेक्टर जविंगली सिलालाही ने बुधवार को कहा था कि बोइंग नए सुरक्षा फीचर के संभावित खतरों के बारे में पायलटों को चेतावनी देने में असफल रहा था. इसके बाद ही गुरुवार को कंपनी के खिलाफ यह मुकदमा दायर किया गया. गौरतलब है कि 29 अक्टूबर को इंडोनेशिया के जकार्ता से उड़ान भरने के कुछ मिनटों बाद ही यह विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गए थे. विमान में सवार सभी 189 लोगों की मौत हो गई. (इनपुट एजेंसी)