तेहरान: ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड्स के कमांडर ने शनिवार को अपने देश पर हमला करने वाले किसी भी देश को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर किसी भी देश ने ईरान पर हमला किया तो वह उसे ‘युद्ध का मैदान’ बना देगा. मेजर जनरल हुसैन सलामी ने यह भी कहा कि ईरान किसी भी तरह की स्थिति से निपटने के लिए तैयार है.

उन्होंने यह बयान उन रिपोर्टो के संदर्भ में दिया है जिसमें बताया गया है कि अमेरिका सऊदी के तेल प्रतिष्ठनों पर हमले के जवाब में सैन्य विकल्प तलाश रहा है. तेल प्रतिष्ठानों पर हमले का जिम्मेदार तेहरान को माना जा रहा है. उन्होंने यहां एक प्रेस वार्ता में कहा, “जो भी देश अपने क्षेत्र को युद्ध का मैदान बनाना चाहता है, वह आगे बढ़े. हम ईरानी क्षेत्र पर अतिक्रमण के लिए किसी को भी इजाजत नहीं देंगे.” ईरान ने सऊदी हमलों के आरोपों के बाद अमेरिका की आलोचना की थी.

उन्होंने कहा, “हम उम्मीद करते हैं कि वे (अमेरिका) कोई रणनीतिक भूल नहीं करेंगे जैसा कि उन्होंने पहले किया था.” मेजर जनरल हुसैन सलामी तेहरान के इस्लामिक रिवोल्यूशन एंड होली डिफेंस म्यूजियम में एक प्रदर्शनी के अनावरण के दौरान अपनी बात रख रहे थे. प्रदर्शनी के दौरान प्रदर्शित किए गए ड्रोन के बारे में ईरान का कहना है कि यह अमेरिका और अन्य देशों के ड्रोन हैं, जिसे उसने अपने क्षेत्र में कब्जे में लिया है. बता दें कि सऊदी अरब की तेल कंपनी ‘अरामको’ पर हमले के बाद तनाव है. इन ड्रोन हमलों का आरोप ईरान पर लगाया गया है. अमेरिका में मदद के लिए सऊदी अरब में अपनी सेना भी भेजने का फैसला लिया है. अमेरिका और ईरान के बीच पहले से ही तनातनी चल रही थी.

दुनिया के सबसे बड़े मुस्‍लिम देश में शादी से पूर्व सेक्‍स संबंधों को लेकर कानून का विरोध

पाक: हिंदू छात्रा की मौत का मामला, प्रोफेसर ने कहा- ‘झमेले’ में थी चांदनी, युवक बोला- मुझसे शादी करनी थी