नई दिल्लीः चीन से उपजे कोरोनावायरस ने इन दिनों पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है. अब खुद चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग इस महामारी की चपेट में आते दिख रहे हैं. शी जिनपिंग के कोरोना पॉजिटिव होने को लेकर अटकलें उस वक्त तेज हो गईं, जब वह कम्यूनिस्ट पार्टी की शेन्जेन के भाषण के दौरान तेज-तेज से खांसने लगे. राष्ट्रपति को खांसता देख हर कोई हैरान रह गया. शी जिनपिंग इतने जोरों से खांस रहे थे कि शेन्जेन को बार-बार अपना भाषण रोकना पड़ा. Also Read - कोविड वैक्सीन के लाभार्थियों की पहचान का काम हुआ शुरू, इन्हें मिलेगी सबसे पहले Coronavirus Vaccine

शी जिनपिंग को खांसता देख मंच पर मौजूद लोग काफी घबरा गए और कैमरामैन भी राष्ट्रपति से दूर भागने लगे. लेकिन, शी जिनपिंग के खांसने का दौर जारी रहा और कैमरे में यह सब रिकॉर्ड होता रहा. शी जिनपिंग के खांसने के बाद यह बात फैलने लगी कि क्या राष्ट्रपति में कोरोना के लक्षण दिख रहे हैं. Also Read - Covid 19 Long Term Effects: शोध में हुआ खुलासा, कोरोना से उबर चुके लोगों को दिख रहे हैं ड्रिप्रेशन और थकान जैसे गंभीर लक्षण

आपको बता दें कि अमेरिका सहित दुनिया भर के देश कोरोना वायरस को विश्व में फैलाने का जिम्मेदार चीन को मानते हैं लेकिन चीन हमेशा बड़े मंच से इस बात को नकारता रहा है. चीन ने कभी इस बात की जिम्मेदारी नहीं ली, लेकिन यह बात भी सही है कि सबसे पहले कोरोना का लक्षण चीन से ही सामने आया था. Also Read - Viral Video: ना दो गज की दूरी- ना मास्क, साड़ी की दुकान पर भारी भीड़, IPS बोले- यहां तो कोरोना भी घुसने से डरेगा...

बताया जा रहा है कि शेन्जेन में हुई इस घटना के दौरान सभी लोगों ने शी जिनपिंग से दूरी बना ली थी क्योंकि वहां मौजूद सभी लोगों को यह लग रहा था कि जिनपिंग को ठीक उसी प्रकार से खांसी आ रही है जिस तरह एक कोविड संक्रमित व्यक्ति के साथ होता है. भाषण के दौरान शी जिनपिंग बार बार खांस रहे थे और बार बार पानी मांग रहे थे.