कोलंबो: आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) ने श्रीलंका में तीन जिहादियों द्वारा ‘घात लगाकर किए गए आक्रमण’ की जिम्मेदारी ली है. आईएस का दावा है कि कल्मुनाई शहर में हुई गोलीबारी में 17 लोग मारे गए हैं, जबकि श्रीलंका प्रशासन ने 16 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की है. इस्लामिक स्टेट ने दावा किया कि श्रीलंका के पूर्वी प्रांत में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ के दौरान उसके तीन आतंकवादी मारे गए हैं, जिन्होंने खुद को उड़ा लिया था. इससे पहले श्रीलंका में हुए सीरियल ब्‍लास्‍ट्स में 253 लोग मारे गए थे और 500 से अधिक घायल हो गए थे.

मुठभेड़ शुक्रवार को उस समय हुई, जब सुरक्षा बल ईस्टर के मौके पर गिरजाघरों और होटलों को निशाना बनाकर किए गए धमाकों के लिए जिम्मेदार स्थानीय आतंकवादी समूह नेशनल तौहीद जमात (एनटीजे) के सदस्यों की तलाश कर रहे थे. पिछले सप्ताह रविवार को ईस्टर के मौके पर हुए सिलसिलेवार विस्फोटों के संबंध में करीब 100 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. रविवार को ईस्टर के दिन हुए विस्फोटों में 253 लोग मारे गए थे और 500 लोग घायल हुए थे.

एफे न्यूज की एक रिपोर्ट के अनुसार, संगठन की आधिकारिक समाचार एजेंसी अल अमाक पर शनिवार को अरबी भाषा में जारी एक बयान में कहा गया कि कल्मुनाई में जहां सुरक्षा अभियान चलाया गया था, वहां 17 पुलिस अधिकारी मारे गए हैं. ‘कोलंबो गजट’ की एक रिपोर्ट के अनुसार आईएस की संवाद समिति ‘अमाक’ के जरिए आईएस ने एक बयान में कहा कि अबू हमाद, अबू सूफयान और अबू अल-काका मारे गए. आतंकी संगठन के हवाले से अमाक में कहा गया है कि उन्होंने स्वचालित हथियारों से गोलाबारी की और गोला-बारूद खत्म होने के बाद, विस्फोटक बेल्ट के जरिए खुद को उड़ा लिया.

बता दें कि पुलिस के विशेष कार्य बल (एसटीएफ) और सेना के जवानों ने एक खुफिया सूचना के आधार पर कोलंबो से करीब 360 किलोमीटर दूर स्थित कलमुनई शहर में एक मकान पर छापा मारा था, जिसके बाद सशस्त्र समूह के साथ भीषण मुठभेड़ हुई. सशस्त्र लोगों ने जवानों पर गोलियां चलाईं. मुठभेड़ की चपेट में आए एक नागरिक की भी मौत हो गई.

हिंसक झड़पों के दौरान माना जाता है कि तीन लोगों ने विस्फोटकों से खुद को उड़ा लिया. मौके से छह बच्चों और तीन महिलाओं सहित कुल 15 शव बरामद हुए थे.
पुलिस प्रवक्ता ने बताया था कि तीन संदिग्ध आत्मघाती हमलावर भी इन 15 लोगों में शामिल हैं. इसके साथ ही अमाक ने हमले में शामिल दो आतंकवादियों की तस्वीर भी जारी की है. वहीं, श्रीलंका सुरक्षा बल ने शनिवार को भी कई जगह छापेमारी की और घटना में 16 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की.

श्रीलंकाई सेना की रिपोर्ट के अनुसार, गुप्त सूचना के आधार पर की गई कार्रवाई के दौरान छह बच्चे, तीन महिला, एक नागरिक और छह आतंकवादी मारे गए थे.
अधिकारियों के अनुसार, अधिकांश मौतें छह आत्मघाती हमलावरों द्वारा खुद को विस्फोटक से उड़ाने की वजह से हुईं, जिसमें उनके परिवार के लोग ही मारे गए.