वॉशिंगटन: यूएस ज्वाइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ के प्रमुख ने कहा कि इस्लामिक स्टेट के सरगना अबू बक्र-अल बगदादी का अंतिम संस्कार अमेरिका के अभियानगत कार्रवाई मानक और सशस्त्र संघर्ष कानून के अनुरूप किया गया है. बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उत्तर-पश्चिमी सीरिया में अमेरिका के विशेष बलों के हमले में बगदादी के मारे जाने की घोषणा की थी. वहीं, अमेरिकी रक्षा मंत्री मार्क एस्पर ने कहा है कि सीरिया में वर्ष 2014 से चल रहा आईएसआईएस को शिकस्त देने का अमेरिकी अभियान जारी रहेगा.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा तुर्की से सभी प्रतिबंध हटाने की घोषणा के कुछ दिनों बाद एस्पर का यह बयान आया है.

अमेरिका की ओर से बताया गया था कि उत्तरपश्चिमी सीरिया में अमेरिका के स्वान दस्ते ने एक तरफ से बंद सुरंग में आईएस सरगना का पीछा किया और जब उसके पास बचने का कोई रास्ता नहीं बचा तो उसने आत्मघाती जैकेट में विस्फोट करके खुद को और तीन अन्य को उड़ा लिया था.

ज्वाइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ के प्रमुख जनरल मार्क मिले ने पत्रकारों से कहा, बगदादी के शव को फोरेंसिक डीएनए जांच के लिए एक सुरक्षित केंद्र ले जाया गया था, ताकि उसकी पहचान की पुष्टि की जा सके और उसके बाद उसका अंतिम संस्कार किया गया. यह प्रक्रिया पूरी हो चुकी है और इसे उचित तरीके से किया गया.

शीर्ष जनरल ने कहा, अभियानगत कार्रवाई मानक और सशस्त्र संघर्ष कानून के अनुरूप उसका अंतिम संस्कार किया गया.
बता दें इससे पहले अलकायदा सरगना ओसामा बिन-लादेन को समुद्र में दफनाया गया था. 2011 में पाकिस्तान के एबटाबाद में अमेरिकी कार्रवाई में लादेन मारा गया था.

जनरल मिले ने एक सवाल के जवाब में बताया कि अमेरिकी बलों को घटनास्थल (बगदादी जहां मारा गया) से आईएसआईएस से जुड़ी और भविष्य की उनकी योजनाओं से संबंधी सामग्री भी मिली. ज्वाइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ के प्रमुख ने कहा, ”वहां से कुछ सामान भी मिला है. पूरी जांच होने तक मैं उसके बारे में अधिक जानकारी नहीं देना चाहूंगा…..”

उन्होंने बताया कि अमेरिकी बलों ने बगदादी के दो साथियों को भी पकड़ा है. जनरल मिले ने कहा कि दो पुरुषों को पकड़ा गया है जो अभी हिरासत में हैं. मौत से पहले बगदादी के रोने-बिलखने के ट्रम्प के दावे पर जनरल मिले ने कहा कि राष्ट्रपति का बयान हमले में शामिल लोगों के साथ उनकी बातचीत पर आधारित था.