जेनेवा : स्विट्जरलैंड की एक अदालत ने जिहादी प्रोपैगैंडा वाली एक फिल्म बनाने और उसका प्रचार करने के जुर्म में एक प्रतिष्ठित इस्लामिक समूह के अधिकारी को 20 महीने जेल की सजा सुनाई है. अदालत ने काउंसिल के कल्चर प्रोडक्शन डिपार्टमेंट के हेड जर्मन नागरिक नैम चेरनी को ये सजा वर्ष 2015 में सीरिया प्रवास के दौरान जिहादी संगठन जाएश अल-फतह के नेता अब्दल्लाह अल-मुहायसिनी के साथ मिलकर जिहाद के विषय पर विवादित फिल्म बनाई थी, जिसका सोशल मीडिया पर व्यापक प्रचार किया गया था.

अदालत ने इस्लामिक सेंट्रल काउंसिल ऑफ स्विट्जरलैंड (आईसीसीएस) के तीन संदिग्धों में से उसके प्रमुख निकोलस ब्लांको और प्रवक्ता कासिम इल्ली को इस मामले में बरी कर दिया. लेकिन काउंसिल के कल्चर प्रोडक्शन डिपार्टमेंट के प्रमुख जर्मन नागरिक नैम चेरनी को दोषी मानते हुए अदालत ने 20 माह कैद की सजा सुनाई. वह वर्ष 2015 में सीरिया गया था और उसने जिहादी संगठन जाएश अल-फतह के नेता अब्दल्लाह अल-मुहायसिनी के साथ फिल्में बनाई थी.

अभियोजकों का आरोप है कि ये फिल्में जिहादी प्रोपैगैंडा वाली है तथा इनका सोशल मीडिया और एक सार्वजनिक कार्यक्रम में प्रचार किया गया. अभियोजकों ने आरोप लगाया था कि इस फिल्म के जरिए गलत सन्देश प्रसारित किया जा रहा था. अदालत ने अभियोजकों के आरोप को सही मानते हुए ये सजा सुनाई है.
(इनपुट एजेंसी)