लाहौर: जमात-उद-दावा प्रमुख हाफिज सईद का बेटा और दामाद पाकिस्तान के जनरल इलेक्शन लड़ेंगे. 25 जुलाई को होने वाले जनरल इलेक्शन में वे पंजाब प्रांत से चुनाव लड़ेंगे. इलेक्शन कमीशन ऑफ पाकिस्तान (ECP) ने आतंकी नेता के बेटे हाफिज तल्हा सईद और दामाद हाफिज खालिद वलीद के नेशनल असेंबली सीट के लिए नामांकन स्वीकार कर लिए हैं. आंतकी संगठन जेडयूडी के चीफ का बेटा हाफिज तल्हा सईद का नामांकन नेशनल असेंम्बली सीट-91 (सारगोधा-4) से और दामाद हाफिज खालिद वलीद नेशनल असेंबली सीट -133 (लाहौर-11) से चुनाव लड़ रहे हैं. ये बात जमात उद दावा के डिप्टी सूचना सेक्रेटरी अहमद नदीम ने ‘द डॉन’ से कही है.

जमात-उद-दावा की ओर से 265 प्रत्याशी
रिपोर्ट के मुताबिक, जमात-उद-दावा की ओर से 265 प्रत्याशियों ने चुनाव लड़ने के लिए नामांकन जमा किया है. आगामी चुनाव में बहुत कम जानी गई अल्लाह-ओ- अकबर (AAT) तहरीक की टिकट पर चुनाव लड़ने जा रहे हैं.

हाफिज सईद ने 15 साल पहले बनाई थी ये पार्टी
एएटी इलेक्शन कमीशन ऑफ पाकिस्तान में 2013 में रजिस्टर्ड की गई थी. जबकि इसका गठन 15 साल पहले किया गया था. जमात-उद-दावा आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का चेहरा है, जिसने 2008 में मुंबई हमला करवाया था. इस आतंकी हमले में 166 लोगों की जान गई थी. इसने एक राजनीतिक फ्रंट लॉन्च किया था. इसका नाम मिल्ली मुस्लिम लीग (MML)था.

आतंकी रिश्तों पर उठा था सवाल
इलेक्शन कमीशन ऑफ पाकिस्तान ने गृहमंत्री के सिफारिश पर हाफिज सईद की राजनीतिक पार्टी एमएमएल का रजिस्ट्रेशन अप्लिकेशन ये कहते हुए अस्वीकृत कर दिया था कि एमएमएल का संबंध आतंकी संगठन से है. पिछले साल सितंबर में इस पत्र में आतंरिक मंत्रालय ने कहा था, ” एमएमएल की हाल की राजनीतिक गतिविधियों पर कूटनीतिक स्तर पर आपत्ति जताई गई हैं”.

पंजाब पर सबसे ज्यादा जोर
रिपोर्ट ने कहा कि एमएमएल पूरे पाकिस्तान में नेशनल असेंम्बली के लिए 80 कैंडिडेट्स और 185 प्रांतीय सीटों पर खड़े करेगी . हालाकि, पंजाब में फोकस रहेगा, जहां पर 50 प्रत्याशी नेशनल असेम्बली और 152 कैंडिडेट्स प्रांतीय असेम्बली के लिए चुनाव लड़ेंगे. (इनपुट- एजेंसी)