काहिरा: सऊदी अरब के पत्रकार जमाल खशोगी की इस्तांबुल के दूतावास में जघन्य हत्या के बाद अब खबर आई है कि जाने माने दिवंगत पत्रकार जमाल खशोगी का बेटा परिवार सहित देश छोड़कर अमेरिका रवाना हो गया. मानवाधिकारों की वकालत करने वाली संस्था ‘ह्यूमन राइट्स वॉच’ (एचआरडब्ल्यू) ने गुरुवार को आधिकारिक समाचार एजेंसी से इसकी पुष्टि की. इस से पहले उनके देश छोड़ने पर प्रतिबंध लगाया गया था, प्रतिबन्ध हटते ही उन्होंने देश छोड़ दिया है.Also Read - सीएए का विरोध कर रहे लोगों पर अनावश्यक घातक बल प्रयोग न करें: ह्यूमन राइट्स वॉच

Also Read - वली अहद ने खशोगी की हत्या का आदेश देने के आरोप से किया इनकार

जमाल खाशोगी का ‘अंतिम कॉलम’ प्रकाशित, वापसी की उम्मीदें खत्म ! Also Read - इस देश ने दिया #Homosexuals को समानता का अधिकार, भेद-भाव करने वालों को मिलेगी ये सजा

सऊदी अरब सुल्तान सलमान बिन अब्दुल्लाजीज और क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने हाल ही में जमाल खशोगी के बेटे सालाह खशोगी से मिलकर सहानुभूति व्यक्त की थी. सऊदी अरब ने वैश्विक दबावों व खागोशी की मौत के पुख्ता सबूत मिलने के बाद एक बयान जारी कर कहा था कि दो अक्टूबर को तुर्की के इस्तांबुल स्थित उसके वाणिज्य दूतावास में ‘झगड़े’ के बाद खशोगी की मौत हो गई.

खाशोगी हत्या गंभीर बात लेकिन सऊदी अरब बड़ा सहयोगी, हथियार सौदा नहीं होगा रद्द: ट्रंप

पूर्व नियोजित थी खशोगी की हत्या !

एचआरडब्ल्यू के मध्यपूर्व और उत्तरी अफ्रीका प्रभाग के निदेशक साराह लेह विट्सन ने मीडिया से सालाह खशोगी के सऊदी अरब छोड़ने की खबर की पुष्टि की. उन्होंने बताया कि सालाह पर सऊदी प्रशासन द्वारा लगाए गए यात्रा प्रतिबंध को हटाए जाने के बाद वह अमेरिका रवाना हो गए. गौरतलब है कि दो अक्टूबर को जमाल खशोगी की इस्तांबुल स्थित सऊदी अरब दूतावास में कथित तौर पर हत्या कर दी गई थी. पूर्व में सऊदी अरब का कहना था कि खशोगी की हत्या अचानक हुए झगड़े का परिणाम थी लेकिन अब सऊदी अरब के ताजा बयान में अंदेशा जताया गया है कि पत्रकार खशोगी की हत्या पूर्वनिर्धारित योजना के तहत की गई प्रतीत होती है. (इनपुट एजेंसी)

सऊदी अरब ने अपने दूतावास में वाशिंगटन पोस्ट के पत्रकार की हत्या के आरोपों को बताया ‘निराधार’