टोक्यो: जापान में आये शक्तिशाली भूकंप के बाद भूस्खलन की घटनाओं में पहाड़ी इलाकों से चट्टानों के तराई क्षेत्र के घरों पर गिरने से कम से कम नौ लोगों की मौत हो गयी और कई लोग लापता हो गये. आशंका है कि कम से कम 30 लोग जमींदोज हो गये और बड़े पैमाने पर हुए भूस्खलन की चपेट में आ गये. 6.6 तीव्रता के भूकंप के कारण देश का कम आबादी वाला उत्तरी होक्काइदो द्वीप गंभीर रूप से प्रभावित हुआ है.

हवाई सर्वेक्षण में पर्वतीय क्षेत्र के तराई में बने कई फार्म, इमारतें बुरी तरह क्षतिग्रस्त नजर आयीं. वहीं बचावकार्य में लगे हेलीकॉप्टर भी लोगों को बचाने के कार्य में जुटे रहे. यह क्षेत्र इससे पहले जापान में आये शक्तिशाली तूफान से भी बुरी तरह प्रभावित हुआ था. इस सप्ताह की शुरुआत में आये शक्तिशाली तूफान ने जापान के कई हिस्सों में भारी तबाही मचायी.

क्षेत्र में बिजली की आपूर्ति करने वाले एक प्रमुख थर्मल प्लांट के भूकंप के चलते क्षतिग्रस्त हो जाने के कारण कम से कम 30 लाख लोगों को बिजली की आपूर्ति बाधित हो गयी है. उद्योग मंत्री हीरोशीगे सेको ने कहा है कि बिजली की आपूर्ति बहाल होने में ‘कम से कम एक सप्ताह’ का समय लगेगा. पेट्रोल पम्पों एवं सुपरमार्केट में लोगों की लंबी-लंबी कतारें दिखीं क्योंकि अधिकारियों ने आगे भी भूकंप आने की चेतावनी दी है.

भारत के साथ दिलचस्प रिश्ता: जवाहर लाल नेहरू के घरेलू डॉक्टर थे पाकिस्तान के नए राष्ट्रपति के पिता

भूकंप से बुरी तरह प्रभावित अबीरा शहर के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘अचानक तेज झटके महसूस हुए. करीब दो से तीन मिनट तक धरती मानो हिलती रही.’’ लोक प्रसारक ‘एनएचके’ की रिपोर्ट के अनुसार कम से कम नौ लोगों की मौत हो गयी है, इनमें से अधिकतर अत्सुमा गांव से हैं. भूस्खलन के कारण इस गांव के अधिकतर घर जमींदोज हो गये हैं. प्रसारक के अनुसार 31 लोग अब भी लापता हैं और करीब 300 लोगों को मामूली चोट आयी है.

इस इस्लामिक देश में रेस्टोरेंट में एक टेबल पर खाना नहीं खा सकते महिला और पुरुष

क्षेत्रीय राजधानी सप्पारो के 62 किलोमीटर दक्षिण पूर्व में आये शुरुआती झटकों के बाद 5.3 तीव्रता के भूकंप के बाद के झटके महसूस किये गये और दिन भर कई बार भूकंप के बाद के झटकों से कंपन महसूस होती रही. कैबिनेट की आपातकालीन बैठक के बाद जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने कहा, ‘‘लोगों की जान बचाने के लिये हम हर संभव प्रयास करेंगे.’’

जापान में पिछले 25 साल में आया सबसे शक्तिशाली तूफान, अबतक 8 लोगों की मौत

सरकारी प्रवक्ता योशिहीदे सुगा ने कहा : ‘‘शक्तिशाली भूकंप से प्रभावित इलाके के लोगों से मैं अनुरोध करता हूं कि वे शांति बनाये रखें, वहां से सुरक्षित निकाले जाने की सूचना पर ध्यान दें… और एक दूसरे की मदद करें.’’ प्रवक्ता ने चेतावनी दी, ‘‘वहां (होक्काइदो में) बारिश हो सकती है. कृपया आगे संभावित भूस्खलन को लेकर सावधान रहें.’’ आपदा के बाद पुलिस और सेल्फ डिफेंस फोर्स सहित करीब 20,000 बचावकर्मी राहत कार्य में जुटे हैं. सुगा ने कहा कि इस प्रयास में अन्य 20,000 और कर्मियों के इसमें जुड़ने की संभावना है.