वाशिंगटन: वर्ल्ड बैंक के अध्यक्ष जिम योंग ने अपना कार्यकाल पूरा होने के तीन साल पहले सबको हैरत में डालते हुए इस्तीफे का ऐलान कर दिया है. जिम योंग किम ने सोमवार को घोषणा की कि वह एक फरवरी से इस्तीफे के बाद कार्यमुक्त हो जाएंगे. किम ने अपना कार्यकाल पूरा होने से तीन साल पहले ही अप्रत्याशित इस्तीफे की घोषणा की है. किम ने इस्तीफे की घोषणा करते हुए बैंक कर्मियों को लिखे पत्र में कहा कि उनका लंबे समय से मानना है कि विकासशील देशों की बड़ी वित्तीय आवश्यकताओं और उपलब्ध सहयोग के बीच अंतर पाटने के लिए निजी क्षेत्र में काम करना आवश्यक है.

विश्व बैंक के अध्यक्ष जिम योंग किम के इस ऐलान के बाद कि वह संस्था के प्रमुख के पद से इस्तीफा दे रहे हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप इस पद पर उनके उत्तराधिकारी का चुनाव कर सकते हैं. ट्रंप की भूमिका से विश्व बैंक के प्रमुख पद पर नियुक्ति के लिए अमेरिका के एकाधिकार को लेकर चुनौतियां एक बार फिर मजबूत होने की संभावना है. किम ने सोमवार को अपने फैसले का ऐलान करते हुए ट्वीट कर कहा, “इस बेहतरीन संस्थान के समर्पित स्टाफ का नेतृत्व करने का अवसर मिलना सौभाग्य की बात रही.”

अमेरिका में कामबंदी जारी, ट्रंप ने विपक्ष को बताया वजह, बोले- मैं तो 20 मिनट में सुलझा सकता हूं मतभेद

चीन समेत एशियाई देशों को आपत्ति
उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए मैंने निर्णय लिया है कि अब मेरे लिए नई चुनौतियों को स्वीकार करने का समय आ गया है.’’ किम के जाने से अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को विश्व बैंक के पद के लिए अपनी पसंद का उम्मीदवार नामित करने का अवसर मिलेगा. विश्व बैंक के गठन के बाद से उसका नेतृत्व अमेरिकियों ने ही किया है और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष का नेतृत्व किसी न किसी यूरोपीय ने किया है. चीन समेत एशियाई देशों और कई अन्य देशों ने इस पर आपत्ति जताई है. किम का कार्यकाल 30 जून 2022 को समाप्त होना था.

भारत-अमेरिका संबंध: पीएम मोदी व ट्रंप ने की बातचीत, दोनों देशों के बीच कई अहम मसलों पर हुई चर्चा

किम ने इस्तीफा देते हुए कहा कि वह विकासशील देशों में बुनियादी ढांचागत निवेश बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित करने वाली कंपनियों के साथ जुड़ने के अलावा ‘पार्टनर्स इन हेल्थ’ के साथ भी फिर से जुड़ेंगे. उन्होंने गरीब देशों को चिकित्सकीय मदद मुहैया कराने के लिए करीब 30 साल पहले ‘पार्टनर्स इन हेल्थ’ संगठन की सह-स्थापना की थी. विश्व बैंक ने कहा कि किम की विदाई के बाद अंतरिम आधार पर बैंक की मुख्य कार्यकारी अधिकारी क्रिस्टालीना जार्जिवा एक फरवरी को पदभार संभालेंगी.

बैंक के सबसे बड़े शेयरधारक होने की वजह से अमेरिका परंपरा के अनुरूप बैंक के प्रमुख की नियुक्ति करता है जबकि यूरोपीय देश अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के प्रमुख का चुनाव करते हैं. किम को 2012 में पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने इस पद पर नामित किया था. ट्रंप के चुनाव से पहले किम को दूसरे कार्यकाल के लिए सितंबर 2016 में दोबारा नियुक्त किया गया, जो जुलाई 2017 को शुरू हुआ. अब, ट्रंप को विश्व बैंक के प्रमुख पद के लिए उम्मीदवार को नामित करने का अवसर मिलेगा. ट्रंप की भूमिका से 189 सदस्यीय विश्व बैंक के नेतृत्व के द्वितीय विश्व युद्ध के बाद के मॉडल की चुनौतियां और मजबूत होंगी, जिसका फैसला हमेशा अमेरिका लेता रहा है. (इनपुट एजेंसी)

दुनिया की अन्य खबरें पढने के लिए क्लिक करें