काबुल. अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में देश की खुफिया एजेंसी के परिसर के पास एक फिदायीन ने खुद को उड़ा लिया जिससे छह नागरिकों की मौत हो गई. हमले की जिम्मेदारी इस्लामिक स्टेट ने ली है. यह हमला उस वक्त हुआ जब कर्मचारी अपने दफ्तर पहुंच रहे थे. हमला आतंकवादियों द्वारा काबुल में ही स्थित नेशनल डायरेक्टोरेट ऑफ सिक्युरिटी (एनडीएस) प्रशिक्षण केंद्र में आतंकी हमले के एक हफ्ते बाद हुआ है.

गृह मंत्रालय के प्रवक्ता नजीब दानिश ने बताया कि जब फिदायीन ने खुद को उड़ाया उस वक्त कार से जा रहे छह नागरिक चपेट में आ गए और उनकी मौत हो गई. दानिश ने बताया कि छह लोग मारे गए जबकि तीन अन्य जख्मी हो गए. उन्होंने बताया कि वे इलाके से अपनी कार से गुजर रहे थे और इसकी चपेट में आ गए. अभी नहीं पता कि हमले का निशाना क्या था लेकिन यह मुख्य सड़क पर हुआ है.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने मृतकों की संख्या की पुष्टि की और घटना में एक व्यक्ति के जख्मी होने के बारे में बताया. इस्लामिक स्टेट ने अपनी प्रचार इकाई अमाक के जरिए एक बयान में हमले का दावा किया. इससे पहले भी मध्य पूर्व के जिहादी समूह ने काबुल में हमले की जिम्मेदारी ली थी. काबुल हाल के महीनों में नागरिकों के लिए सबसे घातक स्थान बन गया है.

राजनयिक क्षेत्र में 31 मई को ट्रक के जरिए भीषण बम विस्फोट के बाद शहर में सुरक्षा बढ़ा दी गई है. घटना में 150 लोगों की मौत हो गई और 400 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे जिसमें अधिकतर नागरिक थे.