न्यूयॉर्क: पहली अश्वेत और दक्षिण एशियाई महिला के तौर पर एक प्रमुख अमेरिकी पार्टी से उप-राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार के रूप में नामित होकर कमला हैरिस ने इतिहास रच दिया है. इस मौके पर उन्होंने अपनी मां को बहुत याद किया. Also Read - चीन ने दूसरे दिन ताइवान के जलडमरु मध्‍य के ऊपर 19 फाइटर जेट उड़ाए, US को लेकर दी धमकी

विस्कॉन्सिन के चेज सेंटर में पार्टी के नेशनल कंवेंशन में बुधवार की रात को अपनी मां के बारे में उन्होंने कहा, “काश आज रात वो यहां होतीं, लेकिन मुझे पता है कि वह आज रात मुझे देख रही हैं.” Also Read - 'अमेरिका-भारत संबंधों को मजबूत करना बाइडेन प्रशासन की प्राथमिकता होगी'

हैरिस की मां श्यामला गोपालन भारत के तमिलनाडु राज्य की थीं, उनका करीब एक दशक पहले निधन हो चुका है. लेकिन अब भी वह कमला हैरिस के जीवन में एक ताकत बनी हुई हैं. कैलिफोर्निया की इस सीनेटर के सबसे महत्वपूर्ण भाषणों में से एक में गोपालन का जिक्र बार-बार आया. Also Read - 5 चीनी हैकरों ने किया बड़ा साइबर अटैक, यूएस, भारत सरकार समेत 100 से ज्‍यादा कंपनियों डाटा चोरी किया

गहरे बरगंडी रंग के पैंटसूट में सजी हैरिस ने उप-राष्ट्रपति के उम्मीदवार के रूप में इस अहम कार्यक्रम में अपना शानदार भाषण दिया. कार्यक्रम में पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा, पूर्व विदेश मंत्री हिलरी क्लिंटन, सदन के सभापति नैन्सी पेलोसी और पूर्व प्रतिनिधि गैबी गिफर्डस भी शामिल थे.

इस मौके पर हैरिस ने उन मूल्यों पर भी बात की, जो उन्हें उनकी मां ने सिखाए थे. उन्होंने कहा, “विश्वास से चलना, ना कि केवल ²ष्टि से और अमेरिकियों की पीढ़ियों के लिए एक ऐसे विजन से काम करना जो कि जो बाइडन में है.”

हैरिस के माता-पिता 1960 के दशक की शुरूआत में बर्कले में कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के डॉक्टरेट छात्रों के रूप में मिले थे. जमैका निवासी उनके पिता डोनाल्ड हैरिस अर्थशास्त्र और उनकी मां ने पोषण और एंडोक्रिनोलॉजी का अध्ययन किया था.
अपनी विरासत का हवाला देते हुए हैरिस ने अपने संबोधन में कहा, “मेरे सामने पीढ़ियों के समर्पण का एक वसीयतनामा है.”

अपनी उम्मीदवारी स्वीकार करते हुए उन्होंने आगे कहा, “मैं संयुक्त राष्ट्र अमेरिका के उप-राष्ट्रपति के पद पर आपका नामांकन स्वीकार करती हूं.”

वायरस को लेकर ट्रंप की अव्यवस्था पर हैरिस ने कहा, “लगातार फैलाई गई अराजकता ने हमें भटकने के लिए छोड़ दिया है, यह हमें भयभीत करती है.”