वाशिंगटन: वाशिंगटन पोस्ट के जाने-माने पत्रकार जमाल खशोगी की सनसनीखेज हत्या मामले में अमेरिका ने सऊदी अरब द्वारा की जा रही जांच की विश्वसनीयता पर सवाल उठाए हैं. अमेरिका के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इस बाबत बातचीत करते हुए कहा कि सऊदी अरब द्वारा पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या की जांच और उससे निपटने के मामले में अब भी पूर्ण विश्वसनीयता और जवाबदेही का अभाव है. अधिकारी ने कहा कि विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ अगले सप्ताह मध्यपूर्व के आठ देशों की यात्रा के दौरान रियाद दौरे पर खशोगी की हत्या को लेकर सऊदी अरब पर दबाव बनाना जारी रखेंगे.

लापता पत्रकार मामला: खाशोगी के अवशेष दूतावास से बाहर ले जाने की संभावना: जांच अधिकारी

बता दें कि वाशिंगटन पोस्ट के पत्रकार जमाल खशोगी की तुर्की दूतावास में उस समय हत्या कर दी गई थी जब वो अपनी शादी के लिए जरूरी कागजात लेने दूतावास गए थे. बाहर इन्तजार कर रही उनकी मंगेतर ने बताया था कि उसके बाद वो दूतावास से फिर कभी बाहर ही नहीं आए. सऊदी सरकार और शहजादे मोहम्मद बिन सलमान के कटु आलोचक रहे खशोगी की हत्या की पुष्टि पहले ही हो चुकी है. लेकिन अभी भी इस हत्या की जांच संदेहों के घेरे में है.

पत्रकार मर्डर केस: जमाल खशोगी का गला घोंट कर की गई थी हत्या, शरीर के किए थे टुकड़े -टुकड़े

अमेरिकी अधिकारी ने पहचान सार्वजनिक नहीं करने की शर्त पर पत्रकारों से कहा, वह पत्रकार जमाल खशोगी का मामला उठाएंगे और सऊदी नेतृत्व पर इस हफ्ते के आरंभ में शुरू हुई कानूनी प्रक्रिया में जवाबदेही और विश्वसनीयता बरतने का दबाव बनाएंगे. अधिकारी ने कहा- हमें नहीं लगता सऊदी अरब की ओर से शुरू की गई अब तक की कानूनी प्रक्रिया में किसी तरह की जवाबदेही और विश्वनीयता है. गौरतलब है कि बीते साल दो अक्टूबर को सऊदी अरब की नीतियों के आलोचक रहे वाशिंगटन पोस्ट के पत्रकार खशोगी की तुर्की में सऊदी दूतावास में हत्या कर दी गई थी, जिसके लिए अमेरिका समेत कई देशों ने सऊदी अरब को जिम्मेदार ठहराया था. (इनपुट एजेंसी )

जमाल खशोगी के बेटे ने प्रतिबंध हटते ही परिवार सहित सऊदी अरब छोड़ा: ह्यूमन राइट्स वॉच

दुनिया की अन्य खबरें पढने के लिए क्लिक करें