वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि बागी पत्रकार जमाल खशोगी को एक योजना के तहत मारा गया लेकिन वह गड़बड़ हो गई. उन्होंने सोमवार को यह भी कहा कि सऊदी अरब के शहजादे मोहम्मद बिन सलमान ने उन्हें बताया कि ना तो वह और ना ही शाह इसमें शामिल थे. Also Read - Saudi Arabia: राजद्रोह के आरोप में तीन सैनिकों को दी गई फांसी, रक्षा मंत्रालय में थे कार्यरत

Also Read - सऊदी अरब से 35 प्रतिशत कम कच्चे तेल की खरीद करेगा भारत, खरीद में विविधीकरण पर जोर

खाशोगी हत्या गंभीर बात लेकिन सऊदी अरब बड़ा सहयोगी, हथियार सौदा नहीं होगा रद्द: ट्रंप Also Read - US Capitol Lockdown: अमेरिकी संसद के बाहर कार ने पुलिस अधिकारियों को मारी टक्कर, यूएस कैपिटॉल में लगा लॉकडाउन

ट्रंप ने अमेरिका के लोकप्रिय दैनिक अखबार यूएसए टुडे को दिए साक्षात्कार में कहा कि उनका (शहजादे का) कहना है कि ना तो वह और ना ही शाह इसमें शामिल हैं. राष्ट्रपति ने कहा कि अगर उनकी संलिप्तता साबित हुई तो मुझे बहुत निराशा होगी. हमें इंतजार करना होगा. उन्होंने कहा कि वह इस मामले की तह तक जाएंगे. उन्होंने कहा कि उनका अब भी मानना है कि खशोगी को एक योजना के तहत मारा गया लेकिन वह गड़बड़ हो गई. इस योजना को उस तरह अंजाम नहीं दिया गया जैसा कि सोचा गया होगा. ट्रंप ने दोहराया कि वह इसके जवाब में खाड़ी देश को हथियारों की बिक्री रोकने की कोशिशों का विरोध करेंगे.

विपक्ष की ओर झुकाव रखने वाला संपादक मानहानि के आरोप में गिरफ्तार

एक या दो दिन में घटना से जुड़े और ब्यौरे सामने आएंगे

साक्षात्कार के बाद अखबार ने कहा कि खशोगी मामले में, ‘गड़बड़ हो गई योजना’ कह कर ट्रंप ने यह संकेत दिया है कि वह मानते हैं कि पत्रकार को उनकी हत्या करने के लिए जानबूझकर दूतावास में नहीं बुलाया गया था. पिछले कुछ दिनों में ट्रंप ने सऊदी अरब के शहजादे और तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन से बात की. अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि एक या दो दिन में घटना से जुड़े और ब्यौरे सामने आएंगे. (इनपुट एजेंसी)