नई दिल्ली: नीदरलैंड के राजा विलियम एलेक्जेंडर और रानी मैक्सिमा रविवार को यहां पांच दिन के भारत दौरे पर पहुंचेंगे. इस दौरान वह देश के शीर्ष नेतृत्व के साथ बैठक करेंगे, जिसका लक्ष्य द्विपक्षीय आर्थिक एवं राजनीतिक सहयोग को बढ़ाना है. नीदरलैंड के राजा का 2013 में राजकाज की बागडोर संभालने के बाद यह पहला भारत दौरा होगा. विदेश मंत्रालय के अनुसार राजा और महारानी रविवार की रात यहां पहुंचेंगे. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उन्हें भारत आने का न्यौता दिया था. इस दौरान राजा और रानी नई दिल्ली के अलावा मुंबई और केरल जायेंगे. सोमवार को उनका कार्यक्रम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा विदेश मंत्री एस जयशंकर से मिलने का है.

ड्रैगन और हाथी का उल्लास मनाना ही चीन और भारत का एक मात्र सही विकल्प है: शी जिनपिंग

साल 2013 में राजगद्दी संभालने के बाद नीदरलैंड के राजा विलियम एलेक्जेंडर की यह पहली राजकीय भारत यात्रा होगी. मंत्रालय ने बताया कि भारत आने पर उनका, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ बैठक का कार्यक्रम है तथा विदेश मंत्री एस जयशंकर भी उनसे मुलाकात करेंगे. नीदरलैंड के राजा तथा महारानी के साथ, वहां की कैबिनेट का एक शिष्टमंडल भी आ रहा है. दिल्ली में अपने आधिकारिक कार्यक्रम के अलावा नीदरलैंड के नरेश विलियम एलेक्जेंडर एवं महारानी मैक्सिमा मुम्बई और केरल भी जायेंगे. बयान के अनुसार, भारत और नीदरलैंड का द्विपक्षीय कारोबार 12.87 अरब डालर का है.

नीदरलैंड, भारत में पांचवां सबसे बड़ा निवेश करने वाला देश है और साल 2000 से दिसंबर 2017 तक उसने 23 अरब डालर का निवेश किया. नीदरलैंड में भारतीय समुदाय के 2,35,000 लोग हैं. नीदरलैंड के राजा नई दिल्ली में 25वें प्रौद्योगिकी शिखर सम्मेलन में भी हिस्सा लेंगे. इस शिखर सम्मेलन में नीदरलैंड सहयोगी देश है.