इंटरनेशनल कोर्ट ने कुलभूषण जाधव मामले में भारत के पक्ष में अपना फैसला सुनाया है. जिसके बाद से पाकिस्तान हताशा का माहौल बन गया है. पाकिस्‍तानी न्‍यूज वेबसाइट डॉन की खबर के अनुसार अब पाकिस्तान में लोग अपने ही सरकार के खिलाफ भड़क गए हैं. बता दें पाकिस्तान के कानूनी जानकारों ने भी माना था कि इंटरनेशनल कोर्ट का फैसला उनके ही पक्ष आएगा. पाकिस्तानी जानकारों के अनुसार 90 मिनट के इस समय में पाकिस्तान ने अपनी दलील को मजबूती से पेश किया होता यह नौबत नही आती. वहीं इस फैसले से पाकिस्तान की उम्मीदों पर पानी फिर गया.

अब इंटरनेशनल कोर्ट के इस फैसले के बाद वहां के लोग पाकिस्तान की सरकार पर बिफरे हुए हैं. उनका कहना है कि पाकिस्तानी सरकार ने अपना दलील कमजोर रखा. यही कारण है की उनकी भारत के सामने हार हुई. लेकिन इस करारी हार के बाद पाकिस्तान अब भी इस बात पर अड़ा है कि जाधव ने कई हत्याओं को अंजाम दिया है. पाकिस्तान ने भारत पर मानवाधिकार के नाम पर दुनिया को भटकाने का आरोप लगाया है.

पाकिस्तान ने अपनाया अड़ियल रवैया

पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत एक ऐसे शख्स को बचाने की कोशिश कर रहा है जिसने निर्दोष पाकिस्तानियों की जान ली. पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने आज कहा कि भारत ने इस मामले में मानवता के बारे न सोचते हुए दुनिया का ध्यान भटकाने की कोशिश की है. हम जाधव के खिलाफ कोर्ट में पुख्ता सबूत पेश करेंगे.

गौरतलब है कि गुरुवार से पहले हुई सुनवाई में भारत ने अपनी दलील रखते हुए मांग की थी कि जाधव की मौत की सजा को तत्काल निलंबित किया जाए. भारत ने आशंका जताई थी कि पाकिस्तान आईसीजे में सुनवाई पूरी होने से पहले जाधव को फांसी दे सकता है. इस मामले में भारत ने दमदार तरीके से अपने तर्क पेश किये थे. जबकि पाकिस्तान ने कुलभूषण के कबूलनामा वाले फर्जी वीडियो और फर्जी पासपोर्ट को अपनी दलीलों का आधार बनाया था.