वॉशिंगटन: निवर्तमान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने गुरुवार को वॉशिंगटन डीसी में “सबसे मजबूत संभव शब्दों में” हमले की निंदा की, जिसमें गुस्साए समर्थकों ने अमेरिकी कैपिटल भवन में आग लगा दी और दंगा शुरू कर दिया. अमेरिकी संविधान के 25 वें संशोधन को लागू करने और कार्यकाल से पहले ट्रम्प को उनके पद से हटाने के लिए कांग्रेस में चर्चा के बाद यह बयान आया है. वहीं, अमेरिका के नव-निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन ने यूएस कैपिटल (अमेरिकी संसद भवन) पर धावा बोलने वाले
दंगाइयों की को ”घरेलू आतंकवादी” करार देते हुए अमेरिका की राजधानी को हिला कर रख देने वाली हिंसा की इस घटना के लिए निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को जिम्मेदार ठहराया है.Also Read - World News: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव की बहस से पहले संक्रमित थे ट्रंप, मगर फिर भी भाग लिया- पूर्व सहयोगी की किताब में दावा

निवर्तमान राष्‍ट्रपति ट्रंप ने कहा, “सभी अमेरिकियों की तरह, मैं हिंसा अराजकता और हाथापाई से नाराज हूं. मैंने इमारत को सुरक्षित करने और घुसपैठियों को बाहर निकालने के लिए तुरंत राष्ट्रीय रक्षक और संघीय कानून प्रवर्तन को तैनात किया. अमेरिका हमेशा कानून और व्यवस्था का राष्ट्र होना चाहिए, ” Also Read - PM Narendra Modi US Visit: प्रधानमंत्री मोदी के 7 साल और 7 बार अमेरिका यात्रा, जानें कब क्या हुआ खास

Also Read - ट्रंप ने की बाइडेन की आलोचना, कहा- सेना की वापसी इतनी बुरी तरह कभी नहीं हुई

ट्रंप ने कहा, ,व्हाइट हाउस से एक आधिकारिक संबोधन में कहा.“अब कांग्रेस ने परिणामों को प्रमाणित कर दिया है. 20 जनवरी को एक नए प्रशासन का उद्घाटन किया जाएगा. मेरा ध्यान अब सत्ता के सुचारू, व्यवस्थित और निर्बाध परिवर्तन को सुनिश्चित करने के लिए है.

बता दें क‍ि शीर्ष लोकतांत्रिक नेतृत्व, कई रिपब्लिकन के साथ, उपराष्ट्रपति माइक पेंस ने हमले के एक दिन बाद अपने “विद्रोह के उकसावे” के लिए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को पद से हटाने के लिए अमेरिकी संविधान में 25 वें संशोधन को लागू करने का आग्रह किया है.

अमेरिकी संसद भवन हिंसा की घटना के लिए बाइडन ने ट्रंप को जिम्मेदार ठहराया
अमेरिका के नव-निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन ने यूएस कैपिटल (अमेरिकी संसद भवन) पर धावा बोलने वाले दंगाइयों की बृहस्पतिवार को निंदा करते हुए उन्हें ”घरेलू आतंकवादी” करार दिया. उन्होंने देश की राजधानी को हिला कर रख देने वाली हिंसा की इस घटना के लिए निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को जिम्मेदार ठहराया. बाइडन ने कहा कि बुधवार को ट्रंप समर्थकों द्वारा अमेरिकी संसद भवन की सुरक्षा का उल्लंघन करना ”असहमति या प्रदर्शन नहीं था ,बल्कि यह उपद्रव था.