इस्लामाबाद: पाकिस्तान (Pakistan) ने देशभर में लागू आंशिक लॉकडाउन को दो सप्ताह के लिए और बढ़ा दिया. इसके साथ ही देश में घातक वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 11,000 से अधिक हो गई है. कोरोना वायरस के कुल मामलों में लगभग 79 प्रतिशत मामले स्थानीय संक्रमण के हैं. स्वास्थ्य अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. यहां मीडिया को संबोधित करते हुए योजना मंत्री असद उमर ने कहा, ‘ यह फैसला किया गया है कि वर्तमान में लागू प्रतिबंध नौ मई तक जारी रहेंगे.’ उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री इमरान खान की अध्यक्षता में हुई राष्ट्रीय समन्वय समिति की बैठक में यह फैसला लिया गया. Also Read - आतंकी संगठन हिजबुल प्रमुख सैयद सलाहुद्दीन पर इस्लामाबाद में हमला, चल रहा इलाज

राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा मंत्रालय के अनुसार, कोरोना वायरस के कारण 13 और मरीजों की मौत हो गई, जिससे मृतक संख्या बढ़कर 237 हो गई. अब तक 2,527 लोग ठीक हो चुके हैं. स्वास्थ्य अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि पिछले 24 घंटों में देश में 642 नए मामले सामने आए, जिससे संक्रमण के कुल मामले 11,155 तक पहुंच गए. Also Read - जहां गिरा पाकिस्तानी विमान वहां मलबे से निकले तीन करोड़ रुपये, हर कोई हैरान

पंजाब में 4,767, सिंध में 3,671, खैबर-पख्तूनख्वा में 1,541, बलूचिस्तान में 607, गिलगित-बाल्तिस्तान में 300, इस्लामाबाद में 214 और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में 55 मरीज सामने आए हैं. पुष्ट मामलों में लगातार वृद्धि हो रही है और अधिकारियों ने आशंका जतायी है कि मई के अंत तक या जून की शुरुआत तक संक्रमण के मामले अपने चरम पर होंगे. Also Read - पाकिस्तानी हैंडलर्स ने भी बनाया 'आरोग्य सेतु एप', खुफिया तंत्र का अलर्ट, आप भी बरतें ये सावधानियां

राष्ट्रीय कमान एवं संचालन केंद्र (एनसीओसी) ने शुक्रवार को कहा कि इनमें से 79 प्रतिशत मामले कोरोना वायरस के स्थानीय स्तर पर फैलने के कारण सामने आए हैं. सरकार ने एक ट्रैक और ट्रेस सिस्टम शुरू करने का फैसला किया है जिसके तहत कुछ दिनों में लोगों की औचक जांच करने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. ‘डॉन’ की खबर के मुताबिक, राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान के कार्यकारी निदेशक प्रोफेसर आमिर इकराम ने कहा है कि वायरस के स्थानीय स्तर पर फैलने के कारण पूरी स्थिति बदल गई है, इस संकट से निपटने के लिए नीति को बदलने का फैसला किया गया है.

इस बीच, अधिकारियों ने लोगों से शुक्रवार को मस्जिदों में भीड़ लगाने के बजाए घर पर ही नमाज़ अदा करने का आग्रह किया है. पाकिस्तान ने रमजान के दौरान मस्जिदों में नमाज अदा करने की सशर्त अनुमति दी है, जिसने कोरोना वायरस के प्रसार पर अंकुश लगाने के अभियान को खतरे में डाल दिया है.