लंदन| पश्चिमी लंदन में 24 मंजिले एक आवासीय इमारत में आज भीषण आग लग गयी, जिसमें कम से कम 12 लोगों की मौत हो गयी और 74 अन्य झुलस गये. ब्रिटेन में पिछले करीब तीन दशक में यह सबसे भीषण अग्निकांड है. लेटिमेर रोड पर स्थित लैंकेस्टर वेस्ट एस्टेट के ग्रेनफेल टावर में स्थानीय समयानुसार रात एक बज कर 16 मिनट पर आग लगी. समझा जाता है कि जब इमारत आग की लपटों से घिर गई, तब करीब 600 लोग टावर के 120 फ्लैटों में मौजूद थे.

चश्मदीदों ने इस पूरे वाकये को बयां किया है. ग्रेन फेल टावर के बाहर खड़े लोगों ने ब्रिटिश मीडिया को बताया कि किस तरह धमाके की आवाज के बाद पूरी बिल्डिंग ने आग पकड़ ली और ये भयावह स्तर तक जा पहुंची.

एक चश्मदीद 38 वर्षीय समीरा लामरानी ने न्यूज एजेंसी एपी को बताया कि बिल्डिंग में आग एक फ्लैट में रखे फ्रिज में ब्लास्ट होने से लगी. उन्होंने कहा कि जब वे बाहर आईं तो उन्होंने एक शख्स को ये कहते सुना कि उसके पड़ोसी के खराब फ्रिज की वजह से आग लगी है. लेकिन वो इस बात से हैरान था कि आग इतनी जल्दी पूरी बिल्डिंग में कैसे फैल गई.

एक अन्य चश्मदीद ने बताया कि बिल्डिंग में फंसे लोग चीख रहे थे. इतना ही नहीं एक व्यक्ति ने अपने बच्चों को बचाने के लिए उन्हें खिड़की से ही नीचे फेंक दिया. उन्हें नीचे किसी ने पकड़ लिया.

grenfell-tower
माइकल परमासिवन नाम के एक चश्मदीद ने मीडिया को बताया कि उसने टावर में रहने वाली एक महिला से बात की, जो 21वीं मंजिल पर पर रहती थी. आग लगने पर वो अपने 6 बच्चों के साथ सीढ़ियों से नीचे भागी, लेकिन नीचे तक 4 ही बच्चे आ पाए. चश्मदीदों के मुताबिक कुछ लोगों ने खिड़की से कपड़े दिखाए ताकि उन्हें बचाया जा सके. कुछ लोगों को चादर का इस्तेमाल कर इमारत से बच कर निकलने की कोशिश करते देखा गया.

तीन दशक में सबसे बड़ी आग की घटना

ब्रिटेन में पिछले करीब तीन दशक में यह आग लगने की सबसे बड़ी घटना है. लेटिमेर रोड पर स्थित लैंकेस्टर वेस्ट एस्टेट के ग्रेनफेल टावर में जिस वक्त आग लगी उस वक्त करीब 600 लोग टावर के 120 फ्लैटों में मौजूद थे. मेटोपोलिटन पुलिस के कमांडर स्टुअर्ट कंडी ने 6 लोगों के मरने की पुष्टि की है. लेकिन उन्होंने ये आंकड़े बढ़ने की आशंका भी जताई है.

बीबीसी की खबर के मुताबिक इमारत अब भी आग के घेरे में है. इसके कभी भी ढह जाने की आशंका है. करीब 200 दमकलकर्मी अब भी आग पर काबू पाने की कोशिश कर रहे हैं. करीब 200 दमकलकर्मी, 40 दमकल वाहन और एंबुलेंस के 20 लोग मौके पर हैं.

राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा ने बताया कि कुल 74 लोगों का अस्पताल में इलाज चल रहा है जबकि 20 लोगों की हालत नाजुक बनी हुई है. दमकलकर्मियों ने बड़ी संख्या में लोगों को बचाया है लेकिन लंदन के मेयर सादिक खान ने कहा कि कई सारे लोगों के बारे में पता नहीं चल पाया है. हालांकि, महानगर पुलिस ने कहा है कि आग लगने की वजह की पुष्टि करने से पहले उसे कुछ वक्त चाहिए.  ग्रेनफेल टावर इलाके के आसपास काफी संख्या में मुसलमान रहते हैं. कई लोग आग लगने के वक्त जागे हुए थे. वे रमजान के दौरान बहुत सवेरे खाई जाने वाली सहरी की तैयारी कर रहे थे.