कुआलालंपुर: मलेशिया के आम चुनाव में 92 वर्षीय दिग्गज नेता महाथिर मोहम्मद ने आज ऐतिहासिक जीत दर्ज की. गौरतलब है कि शपथ ग्रहण के बाद महाथिर दुनिया के सबसे उम्रदराज प्रधानमंत्री होंगे. चुनाव परिणाम में घोटाले के आरोपों से घिरे प्रधानमंत्री नजीब रजाक को मुंह की खानी पड़ी. इसके साथ ही छह दशकों से अधिक समय से सत्ता पर काबिज नजीब को सत्ता छोड़नी पड़ रही है.

चुनाव परिणाम में इस उठापठक को लेकर राजनीतिक पंडित हैरान हैं. महाथिर के विपक्षी गठबंधन ने लंबे समय तक सत्ता पर कब्जा जमाए बैठे बारिसन नेशनल गठबंधन को करारी शिकस्त दी है. यह गठबंधन 1957 में देश की स्वतंत्रता के बाद से मलेशिया की सत्ता पर काबिज रहा है. जबर्दस्त जीत से महाथिर की राजनीति में नाटकीय वापसी हुई है. वह पूर्व में 22 साल तक देश की बागडोर संभाल चुके हैं और उनकी सेवानिवृत्ति के बाद प्रधानमंत्री नजीब रजाक सत्ता में आए थे. उन पर भ्रष्टाचार और घोटालों के गंभीर आरोप लगे हैं.

सड़कों पर रात भर जश्न
चौंकाऊ परिणाम सामने आने के बावजूद कहीं से किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है. बल्कि सड़कों पर रात भर जश्न की खबर सामने आयी हैं. कुआलालंपुर के नजदीक महाथिर की पार्टी के मुख्यालय के बाहर एक मैदान में उनके समर्थक हाथों में झंडा लिये हुये एकत्र हैं. 48 वर्षीय डॉक्टर सुवा सेलवन ने बताया कि उन्हें ऐसा लग रहा है कि जैसे देश को अभी स्वतंत्रता मिली है. उन्होंने कहा कि इस बदलाव से मुझे लगता है कि हम संभवत: भविष्य में कुछ बेहतर देख सकते हैं … भविष्य के लिए हमारी उम्मीद एक बेहतर, निष्पक्ष, स्वतंत्र और एकजुट सरकार की है. इस जीत के बाद संवाददाता सम्मेलन में महाथिर ने कहा कि हम बदला लेने नहीं जा रहे. हम कानून का शासन बहाल करना चाहते हैं. (इनपुट एजेेंसी)