हनोई/लंदन. अमेरिका, ब्रिटेन, चीन, रूस और यूरोपीय संघ ने बुधवार को भारत और पाकिस्तान से अत्याधिक संयम बरतने और परमाणु शक्ति सम्पन्न दोनों पड़ोसी देशों से सैन्य गतिविधि बढ़ाने से बचने का आग्रह किया. भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बुधवार को तब बढ़ गए जब पाकिस्तान ने दावा किया कि उसने पाकिस्तानी वायु सीमा में भारत के दो लड़ाकू विमानों को मार गिराया और एक पायलट को गिरफ्तार कर लिया. पाकिस्तान में, प्रधानमंत्री इमरान खान ने परोक्ष रूप से दोनों देशों के पास मौजूद परमाणु हथियारों के परिप्रेक्ष्य में तनाव को कम करने की कोशिश के तहत कहा कि युद्ध निरर्थक है और कोई नहीं जानता कि यह किन परिणामों की तरफ लेकर जा सकता है. Also Read - Army Day 2021: आर्मी चीफ का चीन को स्पष्ट संदेश, कहा- भारतीय सेना के धैर्य की परीक्षा न ले कोई देश, हम...

Also Read - चीन को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का करारा जवाब, बोले- 'अगर कोई महाशक्ति हमारे सम्मान को ठेस पहुंचाएगी तो...'

पीएम मोदी ने तीनों सेना प्रमुखों के साथ की बैठक, सुरक्षा स्थिति की ली जानकारी Also Read - WHO की एक्‍सपर्ट टीम COVID-19 वायरस की उत्‍पत्ति का पता लगाने चीन के वुहान शहर में पहुंची

तनाव बढ़ने से चिंतित अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने भारत और पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों से अलग अलग बात की और उनसे ‘‘और सैन्य गतिविधि’’ से बचने का आग्रह किया. पोम्पियो अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ वियतनाम गए हुए हैं, जहां उत्तरी कोरियाई नेता किम जोंग उन के साथ ट्रंप की दूसरी शिखर बैठक होने वाली है. पोम्पियो ने कहा, ‘‘मैंने दोनों मंत्रियों से कहा कि हम भारत और पाकिस्तान को संयम बरतने और किसी भी कीमत पर तनाव बढ़ने से रोकने के लिए प्रोत्साहित करते हैं.’’

भारत-पाकिस्तान तनाव के बीच बॉर्डर से सटे राज्यों में बढ़ी सुरक्षा, एयरबेस पर हाई अलर्ट

लंदन में प्रधानमंत्री टेरेसा मे ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़ते तनाव से ब्रिटेन चिंतित है तथा उन्होंने परमाणु ताकत वाले इन देशों से तनाव को और बढ़ने से रोकने के लिए संयम बरतने की अपील की. मे ने कहा, ‘‘ब्रिटेन भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़ते तनाव को लेकर चिंतित है तथा वह दोनों पक्षों से इसे और बढ़ने से रोकने के लिए संयम बरतने का आह्वान करता है. हम दोनों देशों के नियमित संपर्क में हैं और उनसे क्षेत्रीय स्थायित्व सुनिश्चित करने के लिए वार्ता एवं कूटनीतिक हल ढूंढने की अपील की है.’’ मे ने हाउस ऑफ कामन्स में कहा, ‘‘हम तनाव घटाने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद समेत अंतरराष्ट्रीय सहयोगियों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं और घटनाक्रम पर करीब से नजर बनाए हुए हैं.’’

भारत ने पाकिस्तान को चेताया- हमारे पायलट के साथ न हो बदसलूकी, सुरक्षित लौटाएं

रूस ने भी भारत और पाकिस्तान से संयम बरतने को कहा और दोनों देशों के बीच बढ़ी शत्रुता को लेकर ‘‘गंभीर चिंता’’ जताई. रूसी विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘‘हम दोनों पक्षों का आह्वान करते हैं कि वे संयम बरतें और मौजूदा समस्याओं को राजनीतिक तथा कूटनीतिक माध्यमों से सुलझाने का प्रयास करें.’’ इधर, चीन ने दूसरे दिन भी भारत और पाकिस्तान से संयम बरतने का आग्रह किया और कहा कि दोनों देशों को क्षेत्र में शांति एवं स्थिरता कायम रखने के लिए बातचीत करनी चाहिए. चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग की टिप्पणी बालाकोट में भारत की आतंकवाद निरोधक प्रतिक्रिया के खिलाफ पाकिस्तान द्वारा भारत में सैन्य प्रतिष्ठानों को निशाना बनाने के बाद आई. लू कांग ने यहां मीडिया से कहा, ‘‘मैं समझता हूं कि ताजा घटनाक्रम में पाकिस्तान ने कहा है कि उसने भारतीय लड़ाकू विमानों को मार गिराया है और भारतीय पायलटों को पकड़ लिया है.’’

ब्रसेल्स में यूरोपीय संघ की राजनयिक प्रमुख फेडेरिका मोघरेनी ने भारत और पाकिस्तान से अत्याधिक संयम बरतने का आग्रह किया. उन्होंने एक बयान में कहा, ‘‘हम अब दोनों देशों से अत्याधिक संयम बरतने और इससे परहेज करने की उम्मीद करते हैं ताकि तनाव और न बढ़े.’’

(इनपुट – एजेंसी)