डोमिनिका की एक मजिस्ट्रेट अदालत ने कारोबारी मेहुल चोकसी को बृहस्पतिवार को पुलिस हिरासत से जेल भेजने का आदेश दिया, लेकिन फिलहाल अस्पताल में उसका इलाज चलता रहेगा क्योंकि उसकी तबीयत बिगड़ी हुई है. भारत में चोकसी के वकील ने यह जानकारी दी.Also Read - Mehul Choksi News: डोमनिका की कोर्ट से बेल मिलने के बाद मेहुल चोकसी पहुंचा एंटीगुआ एवं बारबुडा

इससे पहले हीरा कारोबारी चोकसी पुलिस हिरासत में था. वकील विजय अग्रवाल ने कहा, ‘पुलिस हिरासत को जेल हिरासत में बदल दिया गया है, लेकिन वह अस्पताल में ही रहेंगे क्योंकि उनकी चिकित्सीय स्थिति बिगड़ी हुई है. ‘ Also Read - डोमनिका में जमानत मिलने के बाद एंटीगुआ एवं बारबुडा पहुंचा चोकसी

चोकसी की कानूनी टीम ने डोमिनिका चाइना फ्रेंडशिप अस्पताल के डॉक्टरों से प्राप्त ‘मानसिक तनाव’ और उच्च रक्तचाप का चिकित्सा प्रमाण पत्र प्रस्तुत किया था. चोकसी का इसी अस्पताल में इलाज चल रहा है. Also Read - PNB Scam: मेहुल चोकसी को डोमिनिका की कोर्ट से मेडिकल आधार पर मिली जमानत

चोकसी सार्वजनिक क्षेत्र के पंजाब नेशनल बैंक से लगभग 13,500 करोड़ रुपये की कर्ज धोखाधड़ी के एक मामले में भारत में वांछित है.

अधिकारियों ने यहां बताया कि सीबीआई और विदेश मंत्रालय ने डोमिनिका उच्च न्यायालय में दो हलफनामे दाखिल कर चोकसी को एंटीगुआ और बारबुडा वापस लाने की मांग करने वाले बंदी प्रत्यक्षीकरण मामले में पक्ष बनाए जाने की अपील की है.

उन्होंने कहा कि केंद्रीय एजेंसी चोकसी की आपराधिक जवाबदेही, भगोड़ा मामले की स्थिति, उसके खिलाफ लंबित वारंट, रेड नोटिस और आरोपपत्र दायर करने पर ध्यान केंद्रित करेगी, जबकि विदेश मंत्रालय यह तर्क देगा कि चोकसी अब भी भारतीय नागरिक है. उन्होंने कहा कि अगर उच्च न्यायालय में दाखिल हलफनामों को स्वीकार किया जाता है, तो प्रसिद्ध वकील हरीश साल्वे के डोमिनिका में भारतीय पक्ष की पैरवी करने का मार्ग प्रशस्त होगा.