Mehul Choksi Case: पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) से जुड़े धन शोधन मामले और धोखाधड़ी के आरोपों का सामना कर रहे भगोड़ा कारोबारी मेहुल चोकसी के वकील माइकल पोलक ने उसके एंटीगुआ का नागरिक होने के नाते कैरीबियाई समुदाय से सोमवार को हस्तक्षेप करने की अपील की.Also Read - PNB Scam: अब मेहुल चोकसी की पत्नी पर ED की नजर, नए आरोपपत्र में चोकसी की पत्नी प्रीति का भी नाम

पोलक ने दावा किया कि चोकसी (62) को एंटीगुआ में एक विला में बुलाया गया, फिर उसकी पिटाई की गई. उसे एक व्हीलचेयर से बांध दिया गया और फिर समुद्र के रास्ते डोमिनिका की ओर भेज दिया गया था, जो देश के कानून का उल्लंघन है और कैरीबियाई समुदाय के लिए एक बड़ी परीक्षा है. Also Read - विजय माल्या, नीरव मोदी और मेहुल चोकसी से बैंकों में लौटे 18,000 करोड़ रुपये- केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट को बताया

लंदन के वकील पोलक ने कहा कि चोकसी को एंटीगुआ से अपहरण कर डोमिनिका ले जाए जाने की घटना ने कैरीबियाई देशों की ओर विश्व का ध्यान आकृष्ट किया और ‘‘ हमने इस संगठन (कैरीबियाई देशों के संगठन कैरीकॉम) से इस मानवधिकार उल्लंघन के बारे में अब तक कुछ नहीं सुना है.’’ Also Read - Chhattisgarh: नक्सलियों ने पुल बना रही कंस्‍ट्रक्‍शन कंपनी के इंजीनियर और श्रमिक किया अपहरण

उन्होंने कहा कि संगठन के महासचिव इर्विन लारोस्क से मिलने के लिए एक अनुरोध किया गया है. गौरतलब है कि चोकसी डोमिनिका में अवैध रूप से प्रवेश करने के आरोपों का सामना कर रहा है और वह 30 मई से अस्पताल में भर्ती है.

(इनपुट भाषा)