वाशिंगटनः अमेरिका में अगले साल होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में प्रत्याशी बनने के लिए न्यूयॉर्क शहर के पूर्व महापौर माइकल ब्लूमबर्ग ने रविवार को औपचारिक रूप से दावेदारी पेश की. उनकी पहचान जलवायु परिवर्तन के खिलाफ कार्य करने वाले कार्यकर्ता और भारत-अमेरिका संबंधों के समर्थक की है.

माना जा रहा है कि 77 वर्षीय ब्लूमबर्ग राष्ट्रपति चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी के आधिकारिक प्रत्याशी बनने की होड़ में शामिल होने वाले आखिरी नेता हैं. प्रत्याशी चुनने का काम अगले साल तीन फरवरी से आयोवा कॉकस की प्राइमरी में मतदान से होगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मित्र ब्लूमबर्ग गत कई सालों में नियमित रूप से भारत आते रहे हैं.

कर्ज लेने के मामले में सबसे आगे पाकिस्तान की इमरान सरकार, 13 महीने में नवाज शरीफ को भी पीछे छोड़ा

ब्लूमबर्ग ने कहा, ‘‘ मैं डोनाल्ड ट्रंप को हराने और अमेरिका का दोबारा निर्माण करने के लिए राष्ट्रपति पद के लिए लड़ रहा हूं. हम और चार साल तक राष्ट्रपति ट्रंप के बिना सोचे समझे और अनैतिक कदमों को नहीं सह सकते. उन्होंने हमारे देश के अस्तित्व और हमारे मूल्यों के लिए खतरा पैदा कर दिया है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘ अगर वह (ट्रंप) दोबारा जीतते हैं तो हम उनसे हुए नुकसान की कभी भरपाई नही कर पाएंगे. इससे अधिक खतरा नहीं हो सकता. हम यह चुनाव जरूर जीतेंगे और हम अमेरिका के पुननिर्माण की शुरुआत करेंगे। मुझे अपने कारोबारी, प्रशासनिक और परोपकारी अनुभव पर भरोसा है जो मुझे जीतने और नेतृत्व करने में मदद करेगा. ’’