वॉशिंगटन: LAC भारत चीन सीमा विवाद पर अमेरिका ने भारत को समर्थन देते हुए कहा है कि वह भारत के साथ खड़ा है. बुधवार के दिन अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पिओ ने कहा कि चीन के उसके हर पड़ोसी देश के साथ सीमा विवाद है. भारत ने चीन के आक्रामक रुख का सही जवाब दिया है. उन्होंने कहा कि मैंने भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर से इस बाबत बात की. बिना किसी उकसावे के चीन का भारत के खिलाफ आक्रामक कार्रवाई करना और भारत द्वारा मुंहतोड़ जवाब चीन के लिए बिल्कुल सही जवाब है. कम्युनिष्ट पार्टी न हाल ही में भूटान के साथ सीमा विवाद का जिक्र किया था. Also Read - भारत ने LAC पर चीन के 1959 के रुख को किया खारिज, कड़ी आपत्ति जताते हुए दिया बड़ा बयान

विदेश मंत्री पॉम्पिओ ने कहा कि हिमालय से लेकर दक्षिण चीन सागर के सेनकाकू आईलैंड सभी जगहों तक चीन का सीमा विवाद है. दुनिया को चाहिए कि वह चीन के खिलाफ एक्शन ले. चीन को ऐसे शैतानी करने व पड़ोसियों के खिलाफ आक्रामक कार्रवाई करते रहने की अनुमति नहीं देनी चाहिए. Also Read - आतंकियों पर कार्रवाई करने में नाकाम पाक को भारत ने किया शर्मसार

चीन को माइक पॉम्पिओ ने कोरोना वायरस मामले में भी खरी-खोटी सुनाई. विदेश मंत्री ने कहा कि चीन की विश्वसनीयता अब संकट में आ चुकी है. क्योंकि कोरोना महामारी की सच्चाई को चीन ने दुनिया से छिपाई और आंकड़ों का भी खुलासा नहीं किया. साथ ही चीन में लोग स्वतंत्रता से अपनी भावनाओं को व्यक्त भी नहीं कर पाते हैं. क्योंक चीन ऐसा करने देने से डरता है. चीन के महामारी को छिपाए जाने के कारण आज दुनिया में लाखों लोग मर रहे हैं. Also Read - भारत में अपनी गतिविधियों को रोकेगी एमनेस्टी, कहा- सरकार ने खाते फ्रीज कर दिए, लगातार बनाया जा रहा निशाना

गौरतलब है कि बीते दिनों माइक पॉम्पिओ ने कहा था कि टिकटॉक और कई चीनी सोशल मीडिया साइट्स को बैन किया जाएगा. उन्होंने बताया कि इस बाबत काम जारी है. अमेरिकी लोगों की डेटा की सुरक्षा को लेकर अमेरिकी सरकार प्रतिबद्ध है.