वॉशिंगटन: अमेरिका में 20 से ज्यादा शीर्ष सांसदों ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से ‘वॉशिंगटन पोस्ट’ में कार्यरत सऊदी अरब के पत्रकार जमाल खाशोगी के बारे में पता लगाने के लिए जांच का आदेश देने तथा इसके पीछे जिम्मेदार लोगों पर प्रतिबंध लगाने के लिए आग्रह किया है. Also Read - वली अहद ने खशोगी की हत्या का आदेश देने के आरोप से किया इनकार

Also Read - पत्रकार खशोगी मर्डर: रिपोर्ट में सऊदी के प्र‍िंस सलमान पर संदेह, मौत का सामान में थीं सिरिंजें और कैचियां

सऊदी अरब ने अपने दूतावास में वाशिंगटन पोस्ट के पत्रकार की हत्या के आरोपों को बताया ‘निराधार’ Also Read - पत्रकार मर्डर केस: जमाल खशोगी का गला घोंट कर की गई थी हत्या, शरीर के किए थे टुकड़े -टुकड़े

सऊदी शहजादे के कटु आलोचक

ट्रंप को लिखे एक पत्र में 22 सांसदों ने उनसे ग्लोबल मैग्नित्स्की अधिनियम, 2016 के प्रावधानों का इस्तेमाल करने का अनुरोध किया जिसके तहत राष्ट्रपति के पास 59 वर्षीय खशोगी की गुमशुदगी में शामिल किसी विदेशी व्यक्ति पर प्रतिबंध लगाने के लिए 120 दिन का समय होता है. खाशोगी सऊदी सरकार और शहजादे मोहम्मद बिन सलमान के कटु आलोचक रहे हैं. बता दें कि सऊदी पत्रकार अपनी शादी के लिए जरूरी कागजात लेने दूतावास गए थे. बाहर इन्तजार कर रही उनकी मंगेतर का कहना है कि वो दूतावास से फिर कभी बाहर ही नहीं आए.

हत्या का शक

अमेरिकी नागरिक खाशोगी दो अक्टूबर को इस्तांबुल में सऊदी वाणिज्य दूतावास में जाने के बाद से लापता हैं. तुर्की के अधिकारियों को शक है कि सऊदी अरब ने पत्रकार को अगवा कर उसकी हत्या कर दी.

बहरहाल, सऊदी अरब ने कहा कि पत्रकार दूतावास से चला गया था और हत्या के दावे ‘‘बेबुनियाद’’ हैं. ट्रंप को लिखे पत्र में सीनेटरों ने कहा कि ‘वॉशिंगटन पोस्ट’ के स्तंभकार के लापता होने से संकेत मिलता है कि वह अंतरराष्ट्रीय तौर पर मान्यता प्राप्त मानवाधिकारों के घोर उल्लंघन के शिकार हुए होंगे.

उन्होंने कहा, ‘हम आपसे अनुरोध करते हैं कि आप श्रीमान खाशोगी से संबंधित ऐसे उल्लंघन के लिए जिम्मेदार किसी विदेशी व्यक्ति के खिलाफ ग्लोबल मैग्नित्स्की ह्यूमैन राइट्स अकाउंटैबिलिटी अधिनियम के अनुसार प्रतिबंधों को लागू करें.’ इससे पहले ट्रंप ने स्थिति पर गहरी निराशा जताई.

यह बुरी स्थिति है

उन्होंने एक सवाल के जवाब में पत्रकारों से कहा, ‘जो भी चल रहा है उसे देखकर हम बहुत निराश हैं. यह अच्छा नहीं है. हम इसकी गहराई में जाने की कोशिश कर रहे हैं. यह बुरी स्थिति है. हम ऐसा नहीं होने दे सकते. पत्रकारों और किसी के भी साथ भी हम ऐसा नहीं होने दे सकते. हम इसकी गहराई में जा रहे हैं.

ट्रंप ने कहा कि प्रथम महिला मेलानिया को खाशोगी की मंगेतर हैतिस सेंगिज से एक पत्र मिला है. उन्होंने कहा, ‘‘अब हम उसके संपर्क में हैं और हम उन्हें व्हाइट हाउस में लाना चाहते हैं. यह बहुत बुरी स्थिति है. (इनपुट भाषा)