NASA News: चांद पर जीवन की उम्मीदें और मजबूत हो गई हैं. अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) ने चंद्रमा की सतह पर पानी की खोज की है. खास बात यह है कि पानी चंद्रमा की सतह पर ऐसे इलाके में मिला है जहां सूरज की किरणें पड़ती हैं. चंद्रमा पर पानी की खोज NASA की स्ट्रेटोस्फियर ऑब्जरवेटरी फॉर इन्फ्रारेड एस्ट्रोनॉमी (SOFIA) ने की है. NASA के खोज से न केवल चंद्रमा पर भविष्य में होने वाले मानव मिशन को बड़ी मजबूती मिलेगी.Also Read - धरती के करीब आ रहा है Asteroid, वैज्ञानिकों को दे सकता है चकमा, नासा ने दी चेतावनी

Also Read - Cosmic Monster: जितनी ऊर्जा हमारा सूर्य एक लाख साल में छोड़ता है, उतनी तो 'ब्रह्मांडीय राक्षस' तारे ने एक बार में छोड़ दी

NASA मुख्यालय में विज्ञान मिशन निदेशालय में एस्ट्रोफिजिक्स डिवीजन के निदेशक पॉल हर्ट्ज ने कहा कि हमारे पास पहले से संकेत थे कि H2O जिसे हम पानी के रूप में जानते हैं, वह चंद्रमा के सतह पर सूर्य की ओर मौजूद हो सकता है. इससे हमें और गहन अंतरिक्ष खोज की प्रेरणा मिलती है. Also Read - World News: एलियंस से संपर्क साधने के लिए NASA ने भर्ती किए 24 धर्मशास्त्री, प्रोजेक्ट पर काम भी शुरू हो चुका

चांद पर इंसानी बस्तियां बसाने की योजना
NASA की चांद पर मानव बस्तियां बसाने की योजना है. नासा की पहले से ही 2024 तक चांद की सतह पर मानव मिशन भेजने की तैयारी है. नासा अपने आर्टेमिस प्रोग्राम के जरिए चांद की सतह पर 2024 तक इंसानों को पहुंचाना चाहता है.

नेचर एस्ट्रोनॉमी के ताजा अंक में प्रकाशित अध्ययन की रिपोर्ट के मुताबिक, इस स्थान के डेटा से 100 से 412 पार्ट प्रति मिलियन की सांद्रता में पानी का पता चला है. तुलनात्मक रूप में सोफिया ने चंद्रमा की सतह पर जितनी पानी की खोज की है उसकी मात्रा अफ्रीका के सहारा रेगिस्तान में मौजूद पानी की तुलना में 100 गुना कम है.