केप केनेवरल: मंगल ग्रह की सतह को खोदने के लिहाज से तैयार किया गया नासा का एक अंतरिक्ष यान 48.2 करोड़ किलोमीटर की यात्रा छह महीने में पूरी करने के बाद सोमवार को लाल ग्रह पर उतरा. कैलिफोर्निया के पासाडेना में स्थित नासा की जेट प्रोपल्सन प्रयोगशाला के उड़ान नियंत्रकों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा जब यह खबर आई. जब एक उड़ान नियंत्रक ने अंतरिक्ष यान के मंगल की सतह पर उतरने की घोषणा की तो उनके साथी उत्साहित होकर उछलने लगे और ताली बजाने लगे. Also Read - कैलिफोर्निया के जंगलों में लगी भीषण आग, 34 लाख एकड़ जमीन जली

Also Read - कैलिफोर्निया के जंगल में लगी भीषण आग, आग का तांडव देखकर दहल जाएगा आपका दिल

आखिरकार हुआ बड़ा खुलासा, ये देश भारत पर कर रहे हैं बड़े Cyber Attack Also Read - COVID-19 का नकली इलाज बेच रहा था यह 'आयरन मैन 2' स्टार, FBI ने किया गिरफ्तार

नासा के मुताबिक इनसाइट नामक यह यान एक पैराशूट और ब्रेकिंग इंजन की मदद से रफ्तार को धीमा किये जाने के बाद उतरा. मंगल से पृथ्वी की दूरी लगभग 16 करोड़ किलोमीटर है और अंतरिक्षयान के बारे में रेडियो सिग्नल से मिल रही जानकारी यहां तक आने में आठ मिनट से ज्यादा का समय लग रहा है. 1976 के बाद से नासा ने नौवीं बार मंगल पर पहुंचने का यह प्रयास किया. अमेरिका के पिछले प्रयास को छोड़कर बाकी सभी सफल रहे. पिछली बार नासा का अंतरिक्षयान क्यूरियोसिटी रोवर के साथ 2012 में मंगल पर उतरा था. (इनपुट एजेंसी)

इसरो हासिल कर सकता है ‘मानव मिशन’ का लक्ष्य: पूर्व नासा वैज्ञानिक