नई दिल्ली: पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के संयुक्त राष्ट्र में दिए भाषण में भारतीय मुसलमानों के संदर्भ में की गई टिप्पणी की राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग (National Minorities Commission) के अध्यक्ष सैयद गयूरुल हसन रिजवी ने निंदा की है. उन्होंने शनिवार को कहा कि भारत का मुस्लिम समाज देशभक्त और पूरी तरह सुरक्षित है तथा उसे इमरान की किसी नसीहत की जरूरत नहीं है. उन्होंने यह भी कहा कि इमरान को पाकिस्तान के अल्पसंख्यकों की चिंता करनी चाहिए जिन पर वर्षों से अत्याचार होता आ रहा है.

UN में भारत के खिलाफ बोलने में इतना खोए इमरान खान कि भाषण के समय का भी नहीं दिया ध्यान

रिजवी ने यहां कहा, ‘भारत के मुसलमानों के बारे में इमरान खान ने जो टिप्पणी की है वो बहुत निन्दनीय है. उन्हें अच्छी तरह पता होना चाहिए कि यहां के मुसलमान देशभक्त हैं और उन्हें किसी विदेशी नेता की नसीहत की जरूरत नहीं है.’ उन्होंने कहा, ‘भारत में मुस्लिम समाज और दूसरे सभी अल्पसंख्यक सुरक्षित हैं. इमरान को अपने देश के अल्पसंख्यकों की चिंता करनी चाहिए जिन पर वर्षों से जुल्म होता आ रहा है. वह पाकिस्तान के अल्पसंख्यक समुदायों पर होने वाले अत्याचारों को रोकेंगे तो बेहतर होगा.’

न्यूयार्क में बांग्लादेश और भूटान सहित कई अन्य राष्ट्राध्यक्षों से पीएम मोदी की हुई द्विपक्षीय वार्ता

बता दें कि यूएनजीए में बोलते हुए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत पर कई तरह के आरोप लगाए थे. कश्मीर का मुद्दा उठाते हुए भारत पर निजी हमले किये थे. उन्होंने ये भी कहा था कि भारत में मुस्लिम सुरक्षित नहीं हैं. उनके साथ गलत व्यवहार होता है. भारत ने पाकिस्तान के इस तरह के आरोपों का कड़ा जवाब दिया है.