काठमांडू: नेपाल की सेना का एक कार्गो हेलिकॉप्टर बुधवार सुबह मुक्तिनाथ घाटी में दुर्घटनाग्रस्त हो गया. इससे दोनों पायलट की मौत हो गई. ये हेलिकॉप्टर घाटी में सामान पहुंचाने गया था. ये हेलिकॉप्टर सामान आपूर्ति के काम के दौरान हादसे का शिकार हुआ है.नेपाल के गृह मंत्रालय ने इस दुर्घटना के बारे में कहा है कि नेपाल सेना का कार्गो हेलिकॉप्टर मुक्तिनाथ में दुर्घटनाग्रस्त हुआ है. Also Read - Sharad Pawar Comment on Rahul Gandhi: ओबामा के बाद अब राहुल गांधी पर शरद पवार का कमेंट, बोले- राहुल में अभी...

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, बुधवार सुबह विमान लापता हो गया. करीब चार घंटे बाद हुमला जिले में विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने का पता चला. हवाईअड्डे के एक अधिकारी ने कहा कि विमान में सवार पायलट और सह-पायलट दोनों मारे गए. दोनों के शवों को काठमांडू लाने की तैयारी चल रही है. उन्होंने कहा, “हमें अभी दुर्घटना के कारण का पता नहीं चला है. जल्द ही जांच शुरू की जाएगी.” Also Read - देश में फिर लगेगा Lockdown या Covid Vaccine पर होगी चर्चा? PM मोदी की अध्यक्षता में सर्वदलीय बैठक आज

विमान ने सुबह 6.12 बजे दो क्रू सदस्यों के साथ सुर्खेत से हुमला के सिमिकोट के लिए उड़ान भरी थी. हवाई यातायात नियंत्रण कक्ष के मुताबिक, इसे सुबह 6.55 बजे लैंड करना था, लेकिन उतरने के कुछ मिनट पहले ही विमान का संपर्क टूट गया. Also Read - Gold Price Today 3 December 2020: लगातार दूसरे दिन सोने के दाम में उछाल, 481 रुपये की आई बढ़त, जानें आज का ताजा भाव

गृह मंत्रालय ने बताया कि सेना नेहेलिकॉप्टर से सामान लेने के लिए बुलाया था. बुधवार सुबह हुए इस हेलिकप्टर क्रैश में दोनों पायलट की जान चली गई हैं.

बता दें की बीते 12 मार्च को पीएम नरेंद्र मोदी ने मुक्तिनाथ घाटी में मुक्तिनाथ मंदिर में विधि-विधान से पूजा की थी. वह इस मंदिर में पूजा करने वाले पहले वैश्विक नेता हैं. मुक्तिनाथ मंदिर 12,172 फुट की ऊंचाई पर स्थित है. मुक्तिनाथ घाटी में स्थित मुक्तिनाथ मंदिर हिंदुओं और बौद्धों दोनों के लिए पवित्र स्थल है। यह मंदिर पहाड़ी मुस्तांग जिले में थोरांग ला दर्रे से 3,710 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है. (इनपुट: एजेंसी)