टीके के असर को बेहद कम कर देता है दक्षिण अफ्रीका में पाया गया कोरोना का नया वैरिएंट, कई देशों ने हवाई यात्रा रोकी

इजराइल के स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि मलावी से लौटे एक यात्री में कोरोना वायरस के नये स्वरूप से संक्रमण का मामला सामने आया है.

Advertisement

New corona variant found in South Africa दक्षिण अफ्रीका में शुक्रवार को कोरोना वायरस के नये स्वरूप (New corona variant) के सामने आने के बाद विश्व के देशों ने इस देश से हवाई यात्रा रोकने जैसा कदम उठाना शुरू कर दिया है. यूरोपीय संघ में शामिल देशों में मामलों में भारी वृद्धि के बीच, जर्मनी के स्वास्थ्य मंत्री जेन्स स्पैन ने कहा, यह एक नया स्वरूप कई समस्याएं पैदा करेगा.’’ ब्रिटिश स्वास्थ्य मंत्री साजिद जाविद ने सांसदों से कहा, शुरुआती संकेत बताते हैं कि यह स्वरूप डेल्टा संस्करण की तुलना में अधिक खतरनाक हो सकता है और वर्तमान टीके इसके खिलाफ कम प्रभावी हो सकते हैं.’’ उन्होंने कहा, हमें जल्द से जल्द संभव कदम उठाने की दिशा में आगे बढ़ना चाहिए.’’

Advertising
Advertising

इजराइल के स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि मलावी से लौटे एक यात्री में कोरोना वायरस के नये स्वरूप से संक्रमण का मामला सामने आया है. यह नये स्वरूप (कोरोना वायरस में बदलाव के बाद उसका नया स्वरूप) से संक्रमण का देश में पहला मामला है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बयान में शुक्रवार को बताया कि यात्री और दो अन्य संदिग्ध संक्रमितों को पृथकवास में रखा गया है.

दक्षिण अफ्रीका में सामने आये कोरोना वायरस के नये स्वरूप के बारे में वैज्ञानिकों का कहना है कि यह बहुत ज्यादा संक्रामक है. नए स्वरूप ने दुनियाभर के शेयर बाजारों को तुरंत प्रभावित किया. यूरोप और एशिया में प्रमुख सूचकांक गिर गये. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने आगाह किया है कि जल्दबाजी में किसी नतीजे पर न पहुंचें.

यह भी पढ़ें

अन्य खबरें

यूरोपीय संघ की घोषणा से पहले डब्ल्यूएचओ में आपात स्थिति के प्रमुख डॉ माइकल रयान ने कहा, "यह वास्तव में महत्वपूर्ण है कि कोई हल्की प्रतिक्रिया नहीं दी जाये.’’ उन्होंने कहा, हमने अतीत में देखा है, हर कोई सीमाओं को बंद कर रहा है और यात्रा को प्रतिबंधित कर रहा है. यह वास्तव में महत्वपूर्ण है कि हम खुले रहें, और केंद्रित रहें.’’

Advertisement

दक्षिण अफ्रीका में कोरोना वायरस का नया स्वरूप सामने आने से दुनियाभर में चिंता

दक्षिण अफ्रीका में इस सप्ताह सामने आए कोरोना वायरस के नए स्वरूप ने दुनियाभर के लिए चिंता पैदा कर दी है. इस स्वरूप के बारे में दक्षिण अफ्रीकी वैज्ञानिकों का कहना है कि देश के सर्वाधिक जनसंख्या वाले प्रांत गौतेंग में महामारी के मामलों में हालिया वृद्धि के लिए यही उत्परिवर्तित स्वरूप जिम्मेदार हो सकता है. यह स्पष्ट नहीं है कि नया स्वरूप वास्तव में कहां से आया है, लेकिन पहली बार दक्षिण अफ्रीका के वैज्ञानिकों ने इसका पता लगाया और हांगकांग तथा बोत्सवाना के यात्रियों में भी इसका संक्रमण देखा गया है.

स्वास्थ्य मंत्री जो फाहला ने कहा कि वायरस के इस स्वरूप का संबंध पिछले कुछ दिनों में मामलों में "वृद्धि" से है. हालांकि, विशेषज्ञ अभी भी यह निर्धारित करने की कोशिश कर रहे हैं कि क्या वास्तव में मामलों में वृद्धि के लिए बी.1.1.1.529’ नाम का यही स्वरूप जिम्मेदार है.

दक्षिण अफ्रीकी विशेषज्ञों ने कहा कि अभी तक इस बात के कोई संकेत नहीं मिले हैं कि यह स्वरूप अधिक गंभीर या असामान्य बीमारी का कारण बनता है. उनका कहना है कि अन्य स्वरूपों की तरह ही इस स्वरूप से संक्रमित कुछ लोगों में बीमारी के कोई लक्षण नहीं होते हैं.

ब्रिटेन के कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में कोविड-19 संबंधी आनुवंशिक अनुक्रमण कार्यक्रम का नेतृत्व करने वाली शेरोन पीकॉक ने कहा कि यह पता करने में अभी कई सप्ताह लगेंगे कि नए स्वरूप के खिलाफ मौजूदा कोविड रोधी टीके प्रभावी हैं या नहीं.

पीकॉक ने यह भी कहा कि इस बात का कोई संकेत नहीं है कि इस स्वरूप से अधिक घातक बीमारी होती है. यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन में जेनेटिक्स इंस्टिट्यूट के निदेशक फ्रेंकोइस बलौक्स ने कहा कि दक्षिण अफ्रीका और विशेष रूप से इसके गौतेंग प्रांत में कोविड​​​​-19 के मामलों में तीव्र वृद्धि चिंताजनक है.

दुनियाभर के स्वास्थ्य विशेषज्ञ वायरस के इस स्वरूप को लेकर चिंतित हैं और इसका अध्ययन करने में लगे हैं. नए स्वरूप से उत्पन्न संभावित खतरे के चलते ब्रिटेन ने छह दक्षिण अफ्रीकी देशों को अपनी यात्रा प्रतिबंध सूची में शामिल कर लिया.

ब्रिटेन की यात्रा प्रतिबंध सूची में शामिल किए गए इन अफ्रीकी देशों में दक्षिण अफ्रीका, नामीबिया, ज़िम्बाब्वे और बोत्सवाना, लेसोथो और इस्वातिनी शामिल हैं. शुक्रवार दोपहर से इन देशों से उड़ानें अस्थायी रूप से निलंबित हो जाएंगी.

हालांकि, घोषित प्रोटोकॉल के अनुसार, इन छह दक्षिणी अफ्रीकी देशों से शुक्रवार को ब्रिटेन पहुंचने वाले यात्रियों को सरकार द्वारा चिह्नित एक होटल में 10 दिन के पृथक-वास में रहना होगा.

(इनपुट भाषा)

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें मनोरंजन की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date:November 26, 2021 7:55 PM IST

Updated Date:November 26, 2021 7:55 PM IST

Topics