बीजिंग। चीन ने आज मीडिया की उस रिपोर्ट को खारिज कर दिया जिसमें कहा गया है कि चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने पाकिस्तान को जमात-उद-दावा के सरगना हाफिज सईद को पश्चिम एशिया के किसी देश भेजने का सुझाव दिया है. रिपोर्ट के मुताबिक, सईद के आतंकवादी समूहों से संबंध होने की खबरों के मद्देनजर बन रहे अंतरराष्ट्रीय दबाव के बीच चीन ने पाकिस्तान को जमात-उद-दावा के सरगना सईद को पश्चिम एशिया के किसी अन्य देश भेजने का सुझाव दिया था. रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के एक करीबी ने कहा कि चीन में पिछले माह आयोजित हुए बाओ फोरम के दौरान शी चिनफिंग ने शाहिद खाकान अब्बासी को यह सुझाव दिया था. Also Read - कोरोना वायरस से अमेरिका में एक दिन में 1169 लोगों की मौत, 6000 के पार पहुंचा मृतकों का आंकड़ा

चीन ने किया खंडन Also Read - चीन में फिर खुला जानवरों का बाजार, बिकने लगे चमगादड़ और पैंगोलिन, एक्ट्रेस बोलीं- अब खुद को खा जाओ

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने इन खबरों को पूरी तरह खारिज कर दिया. इस पर प्रतिक्रिया देते हुए प्रवक्ता ने कहा कि शी की ओर से अब्बासी को जमात-उद-दावा के सरगना हाफिज सईद को पश्चिम एशिया के किसी अन्य देश भेजने का सुझाव देने की खबर चौंकाने वाली और निराधार है. अधिकारी ने कहा कि हम बस यही कह सकते हैं कि यह चौंकाने वाली और निराधार है. Also Read - कोविड-19 महामारी के केंद्र रहे चीन को एशियाई युवा खेल 2021 की मिली मेजबानी

सईद पर 1 करोड़ डॉलर का इनाम

आतंकवादी गतिविधियों में शामिल होने के लिए सईद पर एक करोड़ अमेरिकी डॉलर को इनाम है. वह 2008 मुंबई हमलों का मुख्य साजिशकर्ता है. इस हमले में छह अमेरिकी नागरिकों सहित 166 लोगों की जान गई थी. माना जाता है कि ‘जमात-उद-दावा’ मुंबई हमलों की साजिश रचने वाले लश्कर ए-तैयबा का ही मुखौटा संगठन है. अमेरिका ने सईद का नाम वैश्विक आतंकवादियों की सूची में भी शामिल किया है.

सुरक्षा हटाए जाने से डरा आतंकी हाफिज सईद पहुंचा अदालत, बोला- जान को खतरा है

रिपोर्ट में कहा गया था कि हाफिज सईद पर लगातार पड़ रहे दबाव के चलते पाकिस्तान को उसे कहीं और शिफ्ट कर देना चाहिए. बता दें कि हाफिज मुंबई हमले का मास्टरमाइंड है और भारत ने उसके खिलाफ सबूत और दस्तावेज पाकिस्तान को सौंपे हैं. उस पर पाक सरकार की ओर से दिखावे के लिए कार्रवाई की गई लेकिन बाद में रिहा कर दिया गया.