कोरोनो वायरस महामारी के कारण नीदरलैंड में लगाए गए कर्फ्यू के उल्लंघन के मामले में 3,600 लोगों पर जुर्माना लगाया गया, जबकि 25 अन्य को गिरफ्तार किया गया. इसकी जानकारी पुलिस ने दी. समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, वायरस के प्रसार को रोकने के मद्देनजर यहां रात्रि 9 बजे से लेकर सुबह 4:30 बजे तक लोगों को अपने घरों से बाहर निकलने की अनुमति नहीं है. केवल इमरजेंसी के दौरान ही बाहर निकलने की इजाजत दी गई है. पुलिस ने रविवार को कहा कि कर्फ्यू शुरू होने के बाद चहल-पहल बंद हो गई थी.Also Read - नजदीक रखी चीजों को नहीं पहचान रहा आपका बच्चा? तो फोन और लैपटॉप से बनाएं दूरी

कर्फ्यू के उल्लंघन में 25 लोगों को गिरफ्तार किया गया था, क्योंकि इन लोगों ने सार्वजनिक हिंसा के कारण अंदर जाने से इनकार कर दिया था. जुर्माना के तौर पर 3,600 लोगों से 95 यूरो वसूला गया. उत्तरी शहर उर्क में युवाओं के एक समूह ने अशांति पैदा की, जहां पुलिस की कारों को नष्ट कर दिया गया और कोरोना परीक्षण सुविधा को आग लगा दी गई. Also Read - राष्ट्रपति चुनाव के लिए 90 से ज्यादा उम्मीदवारों में से सिर्फ द्रौपदी मुर्मू व यशवंत सिन्हा के नामांकन वैध

पुलिस के अनुसार, दो लोगों को गिरफ्तार किया गया और दर्जन भर लोगों पर जुर्माना लगाए गया. शनिवार को दक्षिणी शहर स्टीन में, 9 बजे के बाद लगभग सौ लोग इकट्ठा हुए. पुलिस के मुताबिक, जब पुलिस ने हस्तक्षेप किया, तो वहां मौजूद लोगों में से एक ने अधिकारी पर हमला कर दिया, जिससे वह घायल हो गए. इस मामले 14 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. कर्फ्यू 9 फरवरी तक जारी रहेगा. Also Read - Wedding Video: दूल्हे का चेहरा देखते ही दुल्हन की आंखों से झर..झर बहने लगे आंसू, लोग भी रोने लगे...ऐसा क्या हुआ?

(इनपुट: IANS)