नई दिल्ली: अर्थशास्त्र के नोबेल पुरस्कार की घोषणा कर दी गई है. इस बार अर्थशास्त्र में भारतीय मूल के अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी (Abhijit Banerjee) को इस पुरस्कार के लिए चुना गया है. संयुक्त रूप से तीन अर्थशास्त्रियों को यह पुरस्कार दिया जाएगा. दो अन्य अर्थशास्त्रियों के नाम हैं- एस्थर डुफलो (Esther Duflo) और माइकल क्रेमर. इन्हें वैश्विक स्तर पर गरीबी कम करने में योगदान के लिए बनर्जी को इस पुरस्कार के लिए चुना गया है. दिलचस्प ये है कि अभिजीत बनर्जी के साथ नोबेल पुरस्कार पाने वालीं एस्थर डुफलो अभिजीत बनर्जी (Nobel Prize Winner Husband Wife Abhijit Banerjee Esther Duflo) की ही पत्नी हैं. वह भी अमेरिका की मशहूर अर्थशास्त्री हैं. संभवतः ये पहला मौका है, जब अर्थशास्त्र में पति-पत्नी को एक साथ नोबेल पुरस्कार दिया गया है.

अभिजीत का कलकत्ता से है गहरा नाता
अभिजीत मूल रूप से भारत के रहने वाले हैं. अभिजीत का जन्म कलकत्ता में 21 फरवरी 1961 में हुआ था. अभिजीत ने कलकत्ता के साउथ पॉइंट स्कूल से पढ़ाई की. इसके बाद उन्होंने यूनिवर्सिटी ऑफ़ कलकत्ता से 1961 में बीएससी किया. इसके बाद 1983 में जवाहर लाल यूनिवर्सिटी, दिल्ली से इकोनॉमिक्स से एमए की डिग्री हासिल की. जेएनयू के बाद वह 1988 में अमेरिका गए. यहां की हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से पीएचडी की. अभिजीत इस समय अमेरिका में एमआईटी के नाम से मशहूर मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टैक्नोलॉजी में अर्थशास्त्र के प्रोफेसर हैं. अभिजीत ने अब्दुल लतीफ जमील पॉवर्टी एक्शन लैब की स्थापना की थी. अभिजीत की शादी डॉ. अरुंधति तुली बनर्जी से हुईं. अभिजीत का अरुंधति से तलाक हो गया. अभिजीत और अरुंधति बचपन के दोस्त थे और साथ में पले बढ़े थे. दोनों का एक बेटा कबीर था, जिसका 2016 में निधन हो गया.

भारतीय मूल के अर्थशास्त्री सहित तीन लोगों को मिला नोबल पुरस्कार

अरुंधति से तलाक के बाद अभिजीत ने अमेरिका की अर्थशास्त्री और एमआईटी में ही प्रो. एस्थर डुफलो से शादी कर ली. दोनों को एक बच्चा भी है. जिसका जन्म 2012 में हुआ था. अभिजीत के साथ इस बार नोबेल जीतने वालीं एस्थर डुफलो से अभिजीत ने 2015 में शादी कर ली थी, लेकिन दोनों साथ में काफी पहले से रह रहे थे. एस्थर भी एमआईटी में प्रोफ़ेसर हैं. 25 अक्टूबर, 1972 को जन्मी एस्थर फ्रांस और अमेरिका की नागरिक हैं. उन्होंने अभिजीत के साथ मिलकर अब्दुल लतीफ जमील पॉवर्टी एक्शन लैब की स्थापना की थी.