सियोल/प्योंगयांग: देश की संप्रभुता और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए उत्तर कोरिया ने पार्टी की बड़ी बैठक के दूसरे दिन ‘आक्रमक उपायों’ पर चर्चा की. यह जानकारी राज्य की मीडिया ने दी. इसके साथ ही उन्होंने अमेरिका के साथ हुए वार्ता को विफल कर हथियारों का परीक्षण पुन: शुरू करने को लेकर भी चर्चा की. समाचार एजेंसी योनहप की रिपोर्ट के अनुसार, उत्तरी कोरिया की सत्तारूढ़ वर्कस पार्टी की सेंट्रल कमिटी की पूर्ण बैठक के दौरान प्योंगयांग ने धमकी दी है कि अगर वाशिंगटन इस साल के अंत से पहले अपनी परमाणु वार्ता में रियायतें देने में असफल रहता है, तो वह नया रास्ता अपनाएंगे और अपनी कूटनीति को खत्म करते हुए उत्तेजक कार्यो पर लौट आएंगे.

उत्तर कोरिया पर नजर बनाए हुए है अमेरिका, कहा- ‘कुछ भी हुआ तो हम उससे निपट लेंगे’

ज्ञात हो कि उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग नए साल पर बुधवार को भाषण देंगे, जिसमें ऐसी संभावना है कि वह परमाणुकरण और कूटनीतिक मुद्दों से संबंधित एक प्रमुख नीतिगत बदलाव की घोषणा करेंगे. किम की अध्यक्षता में पार्टी बैठक की शुरुआत शनिवार को हुई और दूसके दिन रविवार को बैठक का समापन हुआ. प्योंगयांग के सरकारी समाचार एजेंसी कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी (केसीएनए) के अनुसार, “वर्तमान स्थिति को देखते हुए देश की संप्रभुता और सुरक्षा को पूरी तरह से सुनिश्चित करने के लिए सकारात्मक और आक्रामक कदम उठाने की आवश्यकता पर बल देते हुए उन्होंने विदेश मंत्रालय, युद्ध सामग्री उद्योग और सशस्त्र बलों को अपने कर्तव्य याद दिलाए. हालांकि यह खुलासा नहीं किया गया कि वे आक्रमक उपाय क्या होंगे. इसके साथ ही किम ने विज्ञान, शिक्षा और सार्वजनिक स्वास्थ्य में सुधार प्रयास का भी आह्वान किया.

ट्रंप कर सकते हैं बड़ी घोषणा, इस मुल्क से सैनिकों की हो सकती है वापसी

अमेरिका ने कोरियाई प्रायद्वीप पर फिर उड़ाया निगरानी विमान
अमेरिका ने कोरियाई प्रायद्वीप पर एक बार फिर सोमवार को निगरानी विमान उड़ाया. एक विमान ट्रैकर ने यह जानकारी दी. प्योंगयांग के लंबी दूरी के रॉकेट लॉन्च करने की संभावना को देखते हुए अमेरिका ने हाल ही में उत्तर कोरिया पर नजर रखने के लिए कई बार निगरानी विमान भेजे हैं. समाचार एजेंसी योनहाप ने एयरक्राफ्ट स्पॉर्ट्स के हवाले से कहा कि दक्षिण कोरिया में 31,000 फीट की ऊंचाई पर अमेरिकी वायुसेना का आरसी-135डब्ल्यू रिवर जॉइंट देखा गया. (इनपुट एजेंसी)