संयुक्त राष्ट्र: उत्तर कोरिया का परमाणु एवं बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम अभी भी जारी है और इसको अमेरिका के संभावित सैन्य हमलों से बचाने के लिए प्योंगयांग अपने हवाई अड्डों और अन्य सुविधाओं का इस्तेमाल कर रहा है. संयुक्त राष्ट्र के विशेषज्ञों के एक पैनल ने यह जानकारी दी. पैनल ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा कि उत्तर कोरिया पर लगाए प्रतिबंधों का उसपर कोई असर नहीं हुआ है. प्योंगयांग अब भी अवैध तेल उत्पादों की खेप हासिल कर रहा है, प्रतिबंधित कोयला बेच रहा है और ‘आर्मस एम्बार्गो’ का उल्लंघन कर रहा है.

केंद्र की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने वकील प्रशांत भूषण को भेजा अवमानना का नोटिस

रिपोर्ट में कहा गया, ”डेमोक्रेटिक पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ कोरिया के परमाणु और बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम अब भी जारी हैं.” डेमोक्रेटिक पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ कोरिया (डीपीआरके) उत्तर कोरिया का आधिकारिक नाम है. रिपोर्ट ने कहा, पैनल ने पाया कि डीपीआरके हवाई-अड्डे जैसे नागरिक ठिकानों का इस्तेमाल बैलिस्टिक मिसाइलों को इकट्ठा करने आदि के लिए कर रहा है.

प्रेमिका के ड्राइवर पति की लाश आरी से काट रहा था डॉक्टर, किए 500 टुकड़े, तभी पहुंची पुलिस, फिर…

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग-उन के बीच दूसरी शिखर वार्ता की तैयारियों के बीच यह रिपोर्ट सुरक्षा परिषद को भेजी गई है. अमेरिका को उम्मीद है कि इस दूसरी शिखर वार्ता में प्योंगयांग के परमाणु कार्यक्रमों को खत्म करने की दिशा में कोई ठोस प्रगति हो पाएगी. बता दें कि वार्षिक ‘स्टेट ऑफ यूनियन’ संबोधन में ट्रंप ने 27-28 फरवरी को वियतनाम में किम के साथ दूसरी शिखर वार्ता करने की घोषणा की है.

कोर्ट ने पुलिस से कहा- देशद्रोह मामले में कन्हैया और अन्य पर केस चलाने के लिए जल्द लें अनुमति