प्योंगयांग. दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जेइ-इन ने कहा है कि उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग उन न्योंगब्योंग स्थित अपना मुख्य परमाणु परीक्षण केन्द्र स्थायी तौर पर नष्ट करने को तैयार हैं, बशर्ते कि अमेरिका भी उसके अनुरूप कदम बढ़ाए. किम के साथ इस वर्ष की तीसरी शिखर बैठक के बाद बुधवार को दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति ने यह बात कही. कोरियाई नेताओं ने कहा कि उत्तर कोरिया बाहरी निरीक्षकों की उपस्थिति में मिसाइल इंजन परीक्षण केन्द्र और प्रक्षेपण केन्द्र को बंद करेगा. दोनों देश साथ मिलकर 2023 ग्रीष्म ओलंपिक की मेजबानी की दावेदारी भी पेश करेंगे. मून ने यह भी कहा कि किम निकट भविष्य में सोल की यात्रा पर आने का प्रयास करेंगे.

पढ़ें – दुनिया की मशहूर ‘टाइम’ पत्रिका 1377 करोड़ रुपए से ज्यादा में बिकी

दरअसल, अमेरिका चाहता है कि उत्तर कोरिया अपने परमाणु कार्यक्रम को पूर्ण रूप से बंद कर दे. ऐसे में बुधवार को दोनों कोरियाई नेताओं, मून और किम के संयुक्त बयान पर उसकी प्रतिक्रिया गौर करने लायक होगी. उत्तर कोरिया कोरियाई युद्ध की समाप्ति की लंबे समय से औपचारिक घोषणा की मांग कर रहा है, लेकिन संयुक्त बयान में दोनों नेताओं में किसी ने इसका जिक्र नहीं किया. कोरियाई युद्ध 1953 में संघर्ष विराम संधि के बाद बंद हुआ था. मून की उपस्थिति में किम ने कहा, ‘हम कोरियाई प्रायद्वीप को ऐसा शांतिपूर्ण स्थान बनाने पर राजी हुए हैं, जहां परमाणु हथियार या परमाणु खतरा ना हो.’

अमेरिका ने नॉर्थ कोरिया पर लगे प्रतिबंधों पर विचार विमर्श के लिए बुलाई यूएन की आपात बैठक

अमेरिका ने नॉर्थ कोरिया पर लगे प्रतिबंधों पर विचार विमर्श के लिए बुलाई यूएन की आपात बैठक

किम ने कहा, ‘भविष्य की ओर हमारा रास्ता हमेशा सरल नहीं होगा, ऐसे अवरोध और चुनौतियां आ सकती हैं जिनका हमें अनुमान भी नहीं होगा. लेकिन हमें उन तूफानों का डर नहीं है क्योंकि हमारे देश की शक्ति का परीक्षण करने वाले प्रत्येक तूफान के बाद हमारी ताकत बढ़ेगी.’ संयुक्त बयान को अंतिम रूप से देने के लिए बैठक कक्ष में जाते हुए किम और मून बेहद खुशमिजाजी से मुस्कुराते और बात करते हुए साथ चल रहे थे. संयुक्त बयान में यह भी कहा गया है कि दोनों देशों के नेता कोरियाई प्रायद्वीप को परमाणु हथियार मुक्त बनाने और ‘युद्ध के सभी खतरों को खत्म’ करने के लिए काम करेंगे. सोल ने कहा है कि उत्तर कोरिया में आज दिन में खेलों का आयोजन होना है. इस आयोजन में मून भी हिस्सा लेंगे. हालांकि, अभी यह स्पष्ट नहीं है कि किम भी खेल देखने जाएंगे. आयोजन में करीब डेढ़ लाख दर्शकों के आने की संभावना है.

यह भी पढ़ें – बिजनेस डील करने गए शी जिनपिंग ने व्लादिमीर पुतिन के साथ बनाया Pancake

उत्तर कोरिया ने पहली बार किम के पिता किम जोंग इल के कार्यकाल में 2002 में इन खेलों का आयोजन किया था. 2014 तक इन खेलों का आयोजन प्रतिवर्ष होता रहा है. सोल के मुताबिक, दोनों नेताओं किम और मून के बीच शिखर बैठक उत्तर कोरिया की सत्तारूढ़ वर्कर्स पार्टी के मुख्यालय में हुई. इसमें मून के साथ उनके दो वरिष्ठ सहयोगियों खुफिया विभाग के प्रमुख सु हून और राष्ट्रपति की सुरक्षा मामलों के निदेशक चुंग इयू-योंग ने , जबकि किम की ओर से उनकी बहन किम यो जों तथा पार्टी के वरिष्ठ नेता किम योंग चोल ने हिस्सा लिया. शिखर बैठक शुरू होने पर मंगलवार को किम ने अमेरिका के साथ जून में हुए सम्मेलन की मध्यस्थता करने के लिए मून को धन्यवाद दिया.

(इनपुट – एजेंसी)