उत्तर कोरिया ने इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल का ही परीक्षण किया. इस परीक्षण से क्षेत्र में फिर से तनाव बढ़ गया है. इस बीच अमेरिका ने उत्तर कोरिया के खिलाफ सैन्य बल के इस्तेमाल की चेतावनी दी है. उत्तर कोरिया द्वारा अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल प्रक्षेपित किए जाने के बाद बुलाई गई सुरक्षा परिषद की आपात बैठक में संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की राजदूत निकी हेली ने कहा, यह एक काला दिन है क्योंकि उत्तर कोरिया के कल के कदमों ने दुनिया को पहले से अधिक खतरनाक स्थान बना दिया है.

मगर बड़ा सवाल यह है कि क्या उत्तर कोरिया के मिसाइलों के खिलाफ अमेरिका टिक पाएगा? पेंटागन को छोड़ें तो ज़्यादातर लोगों को लगता है कि अमेरिका को काफी दिक्कत होगी. उत्तर कोरिया द्वारा मंगलवार को इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल के परीक्षण के बाद अब यह सवाल उठ रहा है कि क्या अमेरिका की सेना मिसाइल को हवा में ही नाकाम करने में सक्षम है.

वैसे पेंटागन के प्रवक्ता नौसेना कप्तान जेफ डेविस ने कहा है कि उन्हें खतरे के खिलाफ बचाव करने के लिए उनकी सेना की हमारी क्षमता पर पूरा भरोसा है. डेविस ने मई महीने में अमेरिका द्वारा बैलिस्टिक मिसाइल भेदने वाली प्रणाली के परीक्षण का हवाला दिया. लेकिन उन्होंने स्वीकार किया कि परीक्षण कार्यक्रम पूरी तरह से कामयाब नहीं हुआ था.

एक्सपर्ट्स मानते है कि बहु-स्तरीय मिसाइल रक्षा प्रणाली पर सैकड़ों अरब डॉलर खर्च किए जाने के बावजूद, अमेरिका, उत्तर कोरियाई इंटरकांटिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल हमले से बचने में पूरी तरह सक्षम नहीं है.

विशेषज्ञों के अनुसार अमेरिका कुछ छोटे मिसाइलों को तो अपने टेक्नोलॉजी से भेद सकता है मगर उत्तर कोरिया ने डिफेन्स के क्षेत्र में काफी तरक्की की है और अमेरिका को उसे रोकने के लिए अपनी टेक्नोलॉजी को अपग्रेड करना होगा.

पिछले महीने अमेरिका के मिसाइल डिफेंस एजेंसी के तत्कालीन निदेशक वाइस एडमिरल जेम्स सिरिंग ने एक कांग्रेसी पैनल को बताया था कि पिछले छह महीनों में उत्तर कोरियाई द्वारा रक्षा क्षेत्र में की गई प्रगति से वह चिंतित है.

अमेरिका के एक मिसाइल विशेषज्ञ जॉन शिलिंग ने कहा कि किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि उत्तर कोरिया, मिसाइल टैकनोलजी में इतनी तेजी से तरक्की कर सकता है. एक्सपर्ट्स का यह भी मानना है कि वैसे तो उत्तर कोरिया को भरोसेमंद आईसीबीएम बनाने में वक्त लगेगा मगर अमेरिका उससे बच पायेगा इसकी कोई गारंटी नहीं है.