इस्लामाबाद: पाकिस्तान इन दिनों भयंकर वित्तीय संकट से गुजर रहा है. जहां पाकिस्‍तान का प्रधानमंत्री कार्यालय अपनी बिजली का बिल नहीं भर पा रहा है, वहीं, यह देश बर्बादी और तबाही के हथियारों पर विदेशों से उधार लेकर भारी पैसा खर्च कर रहा है. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को इस अजीबोगरीब स्थिति का सामना करना पड़ रहा है. इस्लामाबाद की बिजली कंपनी ने लाखों रुपए के बकाये बिजली बिल का भुगतान नहीं होने पर प्रधानमंत्री कार्यालय की बिजली काटने की धमकी दी है.

इस्लामाबाद इलेक्ट्रिक सप्लाई कंपनी (आईईएससीओ) ने बुधवार को प्रधानमंत्री सचिवालय को भेजे नोटिस में कहा यदि बिजली बिल का भुगतान नहीं किया जाता है तो बिजली काट दी जाएगी.

VIDEO: पाकिस्‍तान के मंत्री ने दी गीदड़ भभकी, भारत के साथ अक्टूबर-नवंबर में होगा फुल वॉर

कंपनी ने कहा कि प्रधानमंत्री कार्यालय पर 41 लाख रुपए बिजली बिल का बकाया है. प्रधानमंत्री सचिवालय ने पिछले महीने के 35 लाख रुपए का भुगतान भी नहीं किया है. कंपनी ने कहा कि प्रधानमंत्री कार्यालय ने इस बारे में पहले भेजे गए नोटिस का भी जवाब नहीं दिया.

कानून के मुताबिक , लगातार दो महीने का बिजली का बिल नहीं जमा होने पर कंपनी चेतावनी देकर बिजली की आपूर्ति रोक सकती है. बिलों का भुगतान नहीं होने की वजह से बिजली कंपनी निजी बिजली उत्पादकों को भुगतान नहीं कर पा रही है.

पाकिस्तान ने परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम मिसाइल ‘गजनवी’ का टेस्‍ट किया

बता दें पाकिस्‍तान जहां बुरी हालत से गुजर रहा है, वहीं वह बर्बादी के हथि‍यारों पर कर्ज लेकर पैसा फूंक रहा है.पाकिस्तान ने भारत से तनाव के बीच सतह से सतह पर मार करने वाली और परमाणु आयुध ले जाने में सक्षम ‘गजनवी’नाम की बैलिस्टिक मिसाइल का सफल प्रायोगिक परीक्षण किया है, जिसकी मारक क्षमता 290 किलोमीटर तक की है. यह परीक्षण ऐसे समय किया गया है, जब जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने के 5 अगस्त के नई दिल्ली के फैसले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव है.

इससे पहले पाकिस्तान ने मई के शुरू में सतह से सतह पर मार करने वाली ‘शाहीन-2’ बैलिस्टिक मिसाइल का प्रशिक्षण परीक्षण
किया था. जनवरी में उसने ‘नस्र’ नाम की बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया था.