सिंगापुर: उत्तर कोरिया द्वारा पिछले साल किया गया सबसे बड़ा भूमिगत परमाणु परीक्षण एक पर्वत को उखाड़ने में सक्षम था. वैज्ञानिकों का कहना है कि वह बम द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान हिरोशिमा पर अमेरिका द्वारा गिराये गए बम से दस गुना अधिक शक्तिशाली था.

सिंगापुर के नानयांग तकनीकी विश्वविद्यालय एवं अमेरिका के कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, बर्कले के अनुसंधानकर्ताओं ने दिखाया है कि विस्फोट ने किस प्रकार पर्वत को अपनी जगह से हिला दिया था.

‘साइंस’ जर्नल में प्रकाशित अध्ययन के मुताबिक तीन सितंबर, 2017 को उत्तर कोरिया द्वारा किये गए परमाणु परीक्षण के कारण क्षेत्र में 5.2 की तीव्रता का भूकंप आ गया था. अनुसंधानकर्ताओं ने दिखाया है कि परमाणु परीक्षण के कारण परीक्षण स्थल के समीप ही स्थित माउंट मंटाप साढ़े तीन मीटर ऊपर की तरफ उठ गया था और बायीं तरफ आधा मीटर छोटा हो गया था.

(इनपुट-भाषा)