सिडनीः फेसबुक ने शुक्रवार को कहा कि वह प्रयोग के तौर पर ऑस्ट्रेलिया में ‘‘लाइक्स’’ की संख्या को छिपाने वाला है. फेसबुक ने यह कदम दुनिया भर से बढ़े सामाजिक दबाव को कम करने के उद्देश्य से प्रायोगिक तौर पर शुरू किया है. देश भर में फेसबुक अकांउट धारक अब शुक्रवार से पोस्ट पर मिलने वाली प्रतिक्रियाओं की संख्या और अन्य लोगों के पोस्ट पर वीडियो व्यूज को नहीं देख पायेंगे. हालांकि वे अपने पोस्ट पर लोगों की प्रतिक्रिया देख पायेंगे.

भारत के बाद अमेरिका में हैं महात्मा गांधी की सबसे ज्यादा प्रतिमाएं और स्मारक

कंपनी ने एक बयान में कहा, ‘‘हम नहीं चाहते कि फेसबुक कोई प्रतिस्पर्धा जैसा महसूस करे.’’ सोशल मीडिया साइट ने कहा, ‘‘यह एक प्रयोग है जिससे यह पता चलेगा कि लोग इस नये प्रारूप को कैसे अपनाते हैं.’’ कंपनी ने कहा, ‘‘हमें आशा है कि इस प्रयोग से हमें यह भी पता चलेगा कि क्या हम इसे व्यापक तौर पर शुरू कर पायेंगे.’’

पड़ोसियों को भारत ने दिया स्पष्ट संदेश, कहा- सार्क के लिए पूर्व शर्त हो आतंकवाद का सफाया

दुनिया भर में 10 लाख से अधिक लोग फेसबुक का इस्तेमाल करते हैं लेकिन सोशल मीडिया की इस बड़ी कंपनी को मानसिक स्वास्थ्य पर इसके प्रभाव को लेकर काफी दबाव झेलना पड़ा था. ऑस्ट्रेलिया के ईसेफ्टी कमिश्नर के अनुसार देश में पांच में से एक बच्चे के साइबरबुलिंग का शिकार होने की रिपोर्ट मिली है. इस समस्या ने पिछले साल उस वक्त देश भर का ध्यान खींचा जब 14 वर्षीय एक लड़की ने प्रतिष्ठित ऑस्ट्रेलियाई ब्रैंड की टोपी पहने अपनी तस्वीर पोस्ट की थी और ऑनलाइन आलोचना के चलते उसने आत्महत्या कर ली थी.

नासा ने तस्वीरें जारी करके बताया- विक्रम लैंडर की हुई थी हार्ड लैंडिंग

फेसबुक ने जुलाई में अपने अन्य प्रमुख सोशल मीडिया मंच इंस्टाग्राम पर प्रायोगिक तौर पर ‘‘लाइक्स’’ को छिपाने की प्रक्रिया शुरु की थी, जिसके बाद उसका यह फैसला सामने आया है. कनाडा में इंस्टाग्राम से शुरू हुआ यह प्रयोग अब तक ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील और कई अन्य प्रमुख देशों में शुरू किया जा चुका है. फेसबुक ने कहा, ‘‘इसे इंस्टाग्राम पर प्रयोग किया जा चुका है . हालांकि फेसबुक और इंस्टाग्राम की खासियत अलग है और इस प्रयोग से हमें अलग-अलग आंकड़े देखने को मिलेंगे.’’ हालांकि कंपनी इस बात की पुष्टि नहीं की कि यह प्रयोग कब तक जारी रहेगा.