कराची: पाकिस्तान में आर्थिक राजधानी की नेशनल असेंबली की सीटों पर आए शुरूआती रूझानों के मुताबिक, मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट (एमक्यूएम) के कराची का किला ढहने के स्पष्ट संकेत मिल रहे हैं.
कराची एमक्यूएम का 1980 के दशक के अंतिम सालों से गढ़ रहा है. यह पार्टी कराची में उर्दू भाषी आवाम की नुमांइदगी करने का दावा करती है.

पाकिस्तान चुनाव: इमरान खान की पार्टी सबसे आगे लेकिन पूर्ण बहुमत नहीं, बिलावल की पार्टी बनेगी किंगमेकर?

एमक्‍यूएम की पकड़ से फिसला किला
अभी तक आए रूझानों में शहर की 21 सीटों में से पार्टी सिर्फ छह पर आगे चल रही है. इसके पहले तक सिंध से लेकर कराची तक मुत्‍ताहिदा कौमी मूवमेंट (एमक्‍यूएम) की पकड़ मानी जाती रही है. पाकिस्‍तान की इस चौथी सबसे बड़ी पार्टी के नेता अल्‍ताफ हुसैन, दो दशक से भी अधिक समय से लंदन में स्‍व निर्वासित जिंदगी गुजार रहे हैं. अल्‍ताफ हुसैन का असर इस बार पाकिस्‍तान के चुनावों नहीं दिखाई दिया. अभी तक मुहाजिरों (भारत छोड़कर पाकिस्‍तान में बसने वाले उर्दू जुबान के लोग) की सबसे बुलंद आवाज अल्‍ताफ हुसैन की मानी जाती रही है.

पाकिस्तान चुनाव: शुरुआती रुझानों में इमरान खान की पार्टी को बढ़त, त्रिशंकु असेंबली के आसार

बिलावल और शाहबाज का धांधली का आरोप
कराची की एक सीट से चुनाव लड़ने वाले पीपीपी अध्यक्ष बिलावल भुट्टो ने ट्वीट किया ‘ आधी रात का वक्त है और मुझे किसी भी निर्वाचन क्षेत्र से आधिकारिक नतीजे नहीं मिले हैं. मैं खुद चुनाव लड़ रहा हूं. मेरे उम्मीदवार शिकायत कर रहे हैं कि पूरे देश में पोलिंग एजेंटों को मतदान केंद्रों से बाहर कर दिया गया है. ’इमरान और शाहबाज शरीफ भी कराची की अलग अलग सीटों से चुनाव मैदान में हैं. शरीफ ने चुनाव में धांधली का आरोप लगाते हुए परिणामों को खारिज कर दिया है.

शांति पूर्ण रहा कराची मतदान
रूझानों के मुताबिक, एमक्यूएम और पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) छह-छह सीटों पर आगे चल रही हैं जबकि इमरान खान नीत पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ ने चार सीटों पर बढ़त बनाई है. पाकिस्तान मुस्लिम लीग- नवाज एक सीट पर जबकि पाकिस्तान सरजमीं पार्टी दो सीटों पर आगे चल रही हैं. इस बार मतदान के दौरान कराची में हिंसा की कोई बड़ी घटना नहीं हुई. शहर में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं. (इनपुट एजेंसी)