इस्लामाबाद. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के संसदीय कार्य सलाहकार बाबर अवान ने अपने विरुद्ध भ्रष्टाचार का मामला दर्ज होने के बाद मंगलवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया. इसे इमरान खान की अगुवाई वाली सरकार के लिए पहला झटका है.

अपना पद छोड़ते हुए अवान ने ट्वीट किया, संसदीय कार्य मंत्रालय से अपना इस्तीफा सौंपने के लिए प्रधानमंत्री आवास गया था. कानून का शासन मुझसे शुरू होता है. आपको धन्यवाद दिया…….

खान के करीबी के इस्तीफे के महज कुछ घंटे पहले राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो ने इस्लामाबाद में जवाबदेही अदालत में नंदीपुर परियोजना में देरी को लेकर अवान के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया था.

…जब भारतीय सोचते थे कि काश इमरान खान हमारे कप्तान होते

जियो न्यूज के अनुसार रविवार को इस मामले में अवान से तीन घंटे के लिए पूछताछ हुई थी. केंद्र में 2008-2013 के दौरान पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी की अगुवाई वाली शासन के दौरान इस परियोजना में देरी हुई थी और तब अवान कानून एवं न्याय मंत्री थे.

इमरान का फैसला

इमरान ने 18 अगस्त को पीएम पद की शपथ ली थी. इमरान ने खुद कुछ नैतिक मापदंड पेश करते हुए आलीशान पीएम आवास में रहने से इनकार कर दिया था. साथ ही उन्होंने नौकरों की सेवा लेने से भी इनकार किया. वह दो-तीन बेडरूम वाले फ्लैट में रहते हैं. उनका कहना है कि इससे गैरजरूरी खर्च बढ़ता है वह खुद आगे बढ़कर ऐसे खर्च पर काबू रखने का संदेश देना चाहते हैं.