लाहौर: पाक की एक मॉडल के बिना सिर ढके फोटोशूट की सामने आईं तस्‍वीरों से मामला पाकिस्तान से लेकर भारत तक गर्मा गया है. भारतीय सिख स्वतंत्र पत्रकार रविंदर सिंह ने ट्वीट करके उल्लेख किया कि तस्वीरें सोशल मीडिया पर अपलोड की गई हैं और उन्होंने समुदाय के प्रति अनादर को रेखांकित किया. सिंह ने अपने पोस्ट में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को भी टैग किया.Also Read - Live Score Updates IND vs SA 3rd ODI: कप्‍तान ने जसप्रीत बुमराह को थमाई गेंद, शतकवीर क्विंटन डी कॉक हुए आउट

पाकिस्तान पुलिस ने सोमवार को करतारपुर में गुरुद्वारा दरबार साहिब में परिधान के एक ब्रांड के लिए पाकिस्तान की एक मॉडल के बिना सिर ढके फोटोशूट कराने की जांच शुरू कर दी है. पुलिस ने यह जांच तब शुरू की जब एक भारतीय सिख पत्रकार ने तस्वीरों की समुदाय की धार्मिक भावनाओं को आहत करने के लिए आलोचना की. Also Read - IND vs SA, 3rd ODI: सीरीज में Ravichandran Ashwin बुरी तरह फ्लॉप, टीम में चयन से खफा Sanjay Manjrekar

रविंदर सिंह ने ट्वीट किया, ”पाकिस्तान में करतारपुर साहिब में गुरुद्वारा श्री दरबार साहिब के परिसर में महिलाओं के परिधान के लिए बिना सिर ढके मॉडलिंग करके लाहौर की एक महिला ने सिखों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाई है.” गुरुद्वारे में अपना सिर ढकना अनिवार्य है और इसे इस पवित्र स्थान के प्रति सम्मान दिखाने का एक तरीका माना जाता है. Also Read - Virat Kohli के खिलाफ लोग हैं, उनसे कप्तानी छुड़वाई गई: Shoaib Akhtar

(सभी फोटो साभार ट‍ि्वटर र‍व‍िंंदर स‍िंंह)  

पंजाब के मुख्यमंत्री के लिए डिजिटल मीडिया देखने वाले अजहर मशवानी ने सिंह के ट्वीट पर प्रतिक्रिया जताते हुए कहा कि मामला कानूनी कार्रवाई के लिए संबंधित अधिकारियों को भेज दिया गया है. इसके कुछ ही समय बाद पंजाब पुलिस ने ट्वीट किया कि वे इस घटना से जुड़े सभी पहलुओं की जांच कर रहे हैं और जिम्मेदार व्यक्तियों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी. इसने ट्वीट किया, संबंधित ब्रांड के प्रबंधन और मॉडल के खिलाफ जांच की जा रही है. सभी धर्मों के उपासना स्थल समान रूप से सम्मानित हैं.

समाचारपत्र ‘डॉन’ की एक खबर के मुताबिक, मॉडल की तस्वीरें ‘मन्नत क्लोदिंग’नाम के एक परिधान ब्रांड के इंस्टाग्राम पेज पर साझा की गईं, लेकिन आलोचना के बाद इसे हटा दिया गया. खबर में मशवानी के हवाले से कहा गया है कि पुलिस फोटो खींचने में ब्रांड और मॉडल की भूमिका की पहले जांच करेगी और बाद में मामला दर्ज करेगी. उन्होंने कहा, पुलिस इस बात की जांच कर रही है कि मॉडल ने खुद फोटोशूट कराया या फिर ब्रांड ने यह कराया.

सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने ट्वीट किया, ”डिजाइनर और मॉडल को तस्वीरों के लिए सिख समुदाय से माफी मांगनी चाहिए. उन्होंने ट्वीट किया, करतारपुर साहिब एक धार्मिक प्रतीक है…

ये तस्वीरें हमें एक थर्ड पार्टी (ब्लॉगर) ने मुहैया कराई थीं, जिसमें हमारा परिधान पहना गया था
पूरे विवाद पर प्रतिक्रिया जताते हुए ‘मन्नत क्लोदिंग’ब्रांड ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट में माफी मांगी और इस बात से इनकार किया कि उनके अकाउंट पर पोस्ट की गई तस्वीरें उनके द्वारा किए गए किसी भी फोटोशूट का हिस्सा थीं. पोस्ट में कहा गया, ये तस्वीरें हमें एक थर्ड पार्टी (ब्लॉगर) ने मुहैया कराई थीं, जिसमें हमारा परिधान पहना गया था. उसने कहा, हालांकि, हम अपनी गलती स्वीकार करते हैं कि हमें इस सामग्री को पोस्ट नहीं करना चाहिए था और हम हर उस व्यक्ति से माफी मांगते हैं, जो इससे आहत हुआ है.

‘मन्नत क्लोदिंग’ ब्रांड ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट में माफी मांगी
पूरे विवाद पर प्रतिक्रिया जताते हुए ‘मन्नत क्लोदिंग’ ब्रांड ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट में माफी मांगी और इस बात से इनकार किया कि उनके अकाउंट पर पोस्ट की गई तस्वीरें उनके द्वारा किए गए किसी भी फोटोशूट का हिस्सा थीं. उसने कहा, ये तस्वीरें हमें एक थर्ड पार्टी (ब्लॉगर) ने मुहैया कराई थीं, जिसमें हमारा परिधान पहना गया था।’’ उसने कहा, हालांकि, हम अपनी गलती स्वीकार करते हैं कि हमें इस सामग्री को पोस्ट नहीं करना चाहिए था और हम हर उस व्यक्ति से माफी मांगते हैं, जो इससे आहत हुआ है.

पोज देने वाली मॉडल/ब्लॉगर सौलेहा इम्तियाज ने भी माफी मांगते हुए कहा…
तस्वीरों में पोज देने वाली मॉडल/ब्लॉगर सौलेहा इम्तियाज ने भी माफी मांगते हुए कहा, मैं अभी इतिहास के बारे में जानने और सिख समुदाय के बारे में जानने के लिए करतारपुर गई थी। यह किसी की भावनाओं को आहत करने के लिए नहीं किया गया था. उन्होंने इंस्टाग्राम पर लिखा, ”हालांकि, यदि मैंने किसी को ठेस पहुंचाई है या उन्हें लगता है कि मैं उनकी संस्कृति का सम्मान नहीं करती, तो मुझे खेद है. मैं सिख संस्कृति का बहुत सम्मान करती हूं और मुझे सभी सिख समुदाय से खेद है.

कोई भी फैशन शूट करतारपुर साहिब में अनुमति के बिना नहीं किया जा सकता
पंजाब सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस तरह का कोई भी फैशन शूट करतारपुर साहिब में संबंधित अधिकारियों की जानकारी/अनुमति के बिना नहीं किया जा सकता है. उन्होंने कहा, करतारपुर साहिब में आचार संहिता का पालन करते हुए कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है. यह सवाल ही नहीं है कि कोई मॉडल सुरक्षा कर्मियों को चकमा देती है और फैशन शूट करती है. गुरुद्वारे से कोई व्यक्ति इस प्रकरण में शामिल है.

पहले भी पाक मॉडल और अभिनेत्रियों को धार्मिक स्थलों पर फोटो शूट के लिए आलोचना का सामना करना पड़ा
यह पहली बार नहीं है जब पाकिस्तानी मॉडल और अभिनेत्रियों को धार्मिक स्थलों पर फोटो शूट कराने के लिए आलोचना का सामना करना पड़ा है. पाकिस्तानी अभिनेत्री और मॉडल सबा क़मर, जिन्होंने बॉलीवुड फिल्म ‘हिंदी मीडियम’ में अभिनय किया था, के खिलाफ पुराने लाहौर शहर में ऐतिहासिक मस्जिद वजीर खान में एक फोटो शूट के लिए ईशनिंदा का मामला दर्ज किया गया था.