इस्लामाबाद: पाकिस्तानी सेना ने नियंत्रण रेखा (एलओसी) पार घुसपैठ के भारतीय दावे का खंडन किया है. भारत का दावा है कि पाकिस्तानी सैनिकों और आतंकवादियों ने सीमा पार घुसपैठ का प्रयास किया और इस दौरान भारतीय सेना की कार्रवाई में मारे गए कुछ घुसपैठियों के शव भारत की तरफ पड़े हुए हैं. वहीं पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने रविवार को क्षेत्रीय गतिविधियों के मद्देनजर राष्ट्रीय सुरक्षा पर चर्चा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा समिति (एनएससी) की बैठक की.

सूचना एवं प्रसारण के मामले में प्रधानमंत्री की विशेष सहायक डॉ.फिरदौस आशिक अवान ने रविवार को कई ट्वीट कर इसकी जानकारी दी. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के राजनीतिक नेतृत्व को एक ही मंच पर आकर ‘एकता एवं एकजुटता का संदेश’ देना चाहिए. इस बीच, विदेशमंत्री शाह महमूद कुरैशी ने रविवार को इस्लामिक सहयोग संगठन के महासचिव डॉ.युसूफ अहमद अल-उसेमीन से कश्मीर मुद्दे पर संज्ञान लेने का अनुरोध किया है. यह जानकारी रेडियो पाकिस्तान ने अपनी रिपोर्ट में दी.

भारत का दावा है कि पाकिस्तानी सैनिकों और आतंकवादियों ने सीमा पार घुसपैठ का प्रयास किया और इस दौरान भारतीय सेना की कार्रवाई में मारे गए कुछ घुसपैठियों के शव भारत की तरफ पड़े हुए हैं.

5 से 7 घुसपैठिये मारे गए
भारतीय सेना ने शनिवार को कहा था कि उसने जम्मू कश्मीर के केरन सेक्टर में एलओसी के पास अग्रिम चौकी पर पाकिस्तान की बॉर्डर ऐक्शन टीम (बैट) के एक हमले को विफल कर दिया. इस दौरान कम से कम पांच से सात घुसपैठिये मारे गए है.

पाक ने भारत के दावों को खारिज किया
पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता जनरल मेजर आसिफ गफूर ने शनिवार की रात भारतीय दावे का खंडन किया और इसे दुष्प्रचार मात्र बताया. गफूर ने कहा कि भारत कश्मीर की स्थिति से विश्व का ध्यान हटाने का प्रयास कर रहा है. इसी तरह विदेश कार्यालय (एफओ) ने भी मध्य रात्रि में एक बयान जारी किया और भारत के दावों को खारिज किया. एफओ ने कहा, हम पाकिस्तान द्वारा एलओसी पार कार्रवाई किए जाने संबंधी भारत के आरोपों को खारिज करते हैं.

इंडियन आर्मी ने शवों को अपने कब्जे में लेने को कहा
इस बीच नई दिल्ली में सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तानी सेना से सफेद झंडे दिखाते हुए भारतीय सेना से संपर्क करने और भारतीय सीमा में पड़े उसके कर्मियों के शवों को अपने कब्जे में लेने को कहा गया है.