लाहौर: पाकिस्तानी अधिकारियों ने अतिक्रमण के विरूद्ध चलाए जा रहे एक अभियान के दौरान वर्ष 2014 में प्रदर्शनकारियों पर अंधाधुंध गोलीबारी करने और कई लोगों की जान लेने के मामले में कई शीर्ष अधिकारियों सहित कम से कम 116 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है.

H-1B Visa: बड़े बदलावों की तैयारी में अमेरिका, भारतीय IT कंपनियों पर पड़ेगा असर

पुलिस की गोलीबारी की यह घटना लाहौर के मॉडल टाउन इलाके में 2014 में हुई. अतिक्रमण के विरूद्ध चलाए जा रहे एक अभियान के दौरान कनाडाई-पाकिस्तानी मौलवी ताहिर उल कादरी के घर के बाहर जमा पाकिस्तान आवामी तहरीक (पीएटी) के कार्यकर्ताओं को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने गोलियां चलाई थीं. घटना में कम से कम 14 लोग मारे गए थे जबकि सौ अन्य घायल हो गए थे.

जर्मनी: राष्ट्रवादी नेताओं की हिटलर की फोटो वाली शराब की बोतलों के साथ तस्वीरों पर घमासान

निलंबित अधिकारी लाहौर पुलिस लाइन में करें रिपोर्ट

न्यूज इंटरनेशनल की खबर के अनुसार, पंजाब के नव-नियुक्त पुलिस महानिरीक्षक अमजद जावेद सलीमी ने 14 लोगों की मौत के सिलसिले में पुलिस उपाधीक्षकों, निरीक्षकों और जांच अधिकारियों सहित 116 पुलिसकर्मियों को इस सप्ताह उनके पदों से हटा दिया. जिन अधिकारियों को पद से हटाया गया है उन्हें अगले आदेश तक लाहौर पुलिस लाइन में रिपोर्ट करने को कहा गया है. हत्या की जांच के सिलसिले में चार पुलिस अधीक्षकों और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों का पहले ही तबादला हो चुका है. (इनपुट एजेंसी)

भारत को अमेरिका का आश्वासन, मुद्रा निगरानी सूची हटाया जा सकता है नाम