इस्लामाबाद: पाकिस्तान के सूचना मंत्री फवाद चौधरी समेत 332 सांसदों और विधायकों को उनकी संपत्तियों का ब्योरा चुनाव आयोग को नहीं जमा करने के कारण बुधवार को निलंबित कर दिया गया. पाकिस्तान ने जनप्रतिनिधियों के खिलाफ बड़ी कार्यवाही कर कड़ा संदेश दिया है. ब्यौरा नहीं देने वाले कई मंत्रियों पर भी कार्यवाही की गई है.

हिना ने पाकिस्तान को दिखाया आईना, कहा- अमेरिका से कटोरा लेकर भीख मांगने की बजाय भारत से रिश्ते करे मजबूत

पाकिस्तान के चुनाव आयोग (ईसीपी) ने 332 सदस्यों की सदस्यता निलंबित करते हुए कहा कि 1174 सांसदों, विधायकों में से 839 ने ही अपनी संपत्तियों का ब्योरा दिया है. दुनिया न्यूज की खबर के अनुसार निलंबित किये गये सदस्यों में नेशनल असेंबली के 72 , सीनेट के 20, पंजाब विधानसभा के 115, सिंध विधानसभा के 52, खैबर पख्तूनख्वा के 54 और बलूचिस्तान असेंबली के 19 सदस्य शामिल हैं.

खबर के अनुसार इनमें देश के सूचना और प्रसारण मंत्री फवाद चौधरी और स्वास्थ्य मंत्री आमिर कियानी भी शामिल हैं. निलंबित सदस्य संसदीय कामकाज में भाग नहीं ले सकेंगे. आयोग ने अधिसूचना जारी की है कि जब तक ये सदस्य अपनी संपत्तियों और देनदारी का ब्योरा जमा नहीं करते, तब तक निलंबित रहेंगे.